स्कूली बच्चों के जी का जंजाल बना भारी बस्ता, 12 से 43% बच्चे पीठ के निचले हिस्से में दर्द से पीड़ित

स्कूली बच्चों के जी का जंजाल बना भारी बस्ता, 12 से 43% बच्चे पीठ के निचले हिस्से में दर्द से पीड़ितज्यादा किताबें बनीं मुसीबत।

नई दिल्ली (भाषा)। भारतीय बाल्य चिकित्सा पत्रिका में प्रकाशित अध्ययनों के मुताबिक स्कूल जाने वाले 12 से 43 प्रतिशत स्कूली बच्चे भारी बस्ते के चलते पीठ के निचले हिस्से में दर्द से पीड़ित हैं।

मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने प्रारंभिक बाल शिक्षा के लिए किसी पाठ्यपुस्तक की सिफारिश नहीं की है। इसने कक्षा एक और दो के लिए सिर्फ दो पुस्तकें (भाषा और गणित) और कक्षा तीन से पांच तक के लिए तीन पुस्तकों (भाषा, पर्यावरण अध्ययन और गणित) की सिफारिश की है।

ये भी पढ़ें- स्कूली बस्ते के बोझ से बेहाल देश के नौनिहाल...

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मंत्री ने कहा कि प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के बच्चों की एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों की संख्या और आकार उनकी आयु के अनुसार है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने भी खुद से संबद्ध स्कूलों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि दूसरी कक्षा तक बच्चे बस्ता लेकर ना आएं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top