उन्‍नाव रेप पीड़‍िता एक्‍सीडेंट: क्‍या है उस दिन की पूरी कहानी?

Ranvijay SinghRanvijay Singh   30 July 2019 7:37 AM GMT

रणविजय सिंह/अभ‍िषेक वर्मा

रायबरेली। रविवार (28 जुलाई) का दिन था, दोपहर के करीब 1 बजे थे। बारिश इतनी तेज हो रही थी कि उसकी आवाज के आगे लोगों की आवाज भी धीमी सुनाई दे रही थी। इस बीच धड़ाम की तेज आवाज की गूंज माहौल में एक डर पैदा कर देती है। रमेश चंद (48 साल) के शब्‍दों में - ''मुझे लगा जैसे छत फट गई हो।''

यह आवाज एक ट्रक और कार की आमने-सामने की भिड़ंत के बाद उठी थी। इस एक्सीडेंट को देखने वाले राम विलास यादव (55 साल) बताते हैं, ''ट्रक बेकाबू था और बहुत तेज भी। 100 के ऊपर की स्‍पीड रही होगी। सीधा आया और कार से जा टकराया। वो तो गनिमत रही कि ट्रक पास की चाय की दुकान में नहीं घुसा वरना और ज्‍यादा लोगों की जान जाती।''

राम विलास जिस एक्‍सीडेंट के बारे में बता रहे हैं वो रायबेरली उन्‍नाव रोड (एनएच 232) पर सुलतानपुर खेड़ा गांव के पास हुआ था। जिस कार से एक्‍सीडेंट हुआ उसमें उत्‍तर प्रदेश के उन्नाव के बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़‍िता अपने परिवार के साथ रायबरेली जा रही थी। एक्‍सीडेंट इतना भयानक था कि इसमें बैठे चार लोगों में से दो (पीड़‍िता की मौसी और चाची) की मौत हो गई। वहीं, रेप पीड़िता और कार चला रहे उसके वकील महेंद्र सिंह की हालत नाजुक बनी हुई है।


जिस जगह हादसा (सुलतानपुर खेड़ा मोड़) हुआ वहां शैलेंद्र यादव की इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स की दुकान है। शैलेंद्र यादव (22 साल) बताते हैं, ''ट्रक बहुत तेज था, बारिश भी हो रही थी। ऐसे में पलक झपकते ही उसने कार को टक्‍कर मार दी।'' इस सवाल पर कि ''कार को टक्‍कर मार दी?'' वो कहते हैं, हां ट्रक ने ही टक्‍कर मारी है। कार वाले की गलती नहीं थी, ट्रक ही बेकाबू था और सड़क के दूसरी तरफ जाकर कार से टकरा गया।'' वो कहते हैं, ''ट्रक खाली था और सब जानते हैं कि खाली ट्रक कितनी तेज चलते हैं।''

शैलेंद्र की तरह ही अरुण कुमार (21 साल) का भी इसी मोड़ पर गैराज है। वो बताते हैं, ''ट्रक से टक्‍कर लगने के बाद कार कुछ पीछे गई, वहीं ट्रक भी घूम कर सड़क पर लग गया। उसकी कमानी टूट गई थी।'' अरुण कुमार हादसे की भयावहता को बताते हुए कहते हैं, ''इस मोड़ पर तो अक्‍सर एक्‍सीडेंट होते हैं, लेकिन इस तरह का हादसा मैंने पहले नहीं देखा। कार में से एक औरत बाहर की ओर गिरी हुई थी। हम लोगों ने कार में मौजूद लोगों को बाहर निकाला, लेकिन ड्राइवर को निकालने में काफी दिक्‍कत हुई। वो बुरी तरह से फंसे हुए थे।''

अरुण बताते हैं, ''एक्‍सीडेंट होते ही ट्रक का ड्राइवर कहीं भाग गया था। बाद में जब पुलिस आई तो वो सामने आया।'' अटौरा बुजुर्ग पुलिस चौकी के इंचार्ज बताते हैं, ''ट्रक का ड्राइवर इस डर से भाग गया होगा कि लोग पिटाई करेंगे। जब पुलिस पहुंची तो वो सामने आया था।'' ट्रक के नंबर प्‍लेट पर पुती कालिख के बारे में चौकी इंचार्ज कहते हैं, 'गाड़ी का नंबर मिटाने पर ट्रक मालिक का कहना है कि किश्तों पर गाड़ी ली थी और उसकी किश्तें नहीं चुका रहा था, इसलिए नंबर छिपा दिया। ट्रक बांदा से रायबरेली मोरंग गिराने गया था और खाली करके वापस जा रहा था। वहीं, ट्रक के ड्राइवर का कहना है कि ''बारिश की वजह उसे दिक्कत हुई और हादसा हो गया।''

हादसे पर रेप पीड़िता की बहन ने गांव कनेक्‍शन को बताया कि, ''हमें पहले से धमकियां मिल रही थीं कि विधायक पर से केस वापस लो वरना मार दिया जाएगा और फिर ये हादसा हो जाता है। हमारा साफ कहना है कि मरवाया गया है।''


इस मामले में फिलहाल पीड़िता के चाचा की तरफ से FIR दर्ज कराई गई है। इसमें विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, विधायक के भाई मनोज सेंगर, विनोद मिश्र, हरिपाल सिंह, नवीन सिंह, कोमल सिंह, अरुण सिंह, ज्ञानेन्द्र सिंह, रिंकू सिंह, वकील अवधेश सिंह तथा 15-20 अन्य लोगों को नामजद किया गया है। ये मुकदमा IPC की धारा 302 (हत्या), 307 (हत्या की कोशिश), 506 (डराने धमकाने), 120 बी (आपराधिक साजिश रचने) में दर्ज किया गया है। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार ने इस दुर्घटना की जांच सीबीआई को सौंपे जाने की सोमवार देर रात सिफारिश भी कर दी है।

बता दें उन्नाव रेप मामला पिछले साल उस समय चर्चा में आया था जब रेप पीड़‍िता ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर न्याय के लिए प्रदर्शन किया था। पीड़ित लड़की ने आरोप लगाया था कि उन्नाव के बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सेंगर ने उसके साथ 4 जून, 2017 को अपने आवास पर दुष्कर्म किया, जहां वह अपने एक रिश्तेदार के साथ नौकरी मांगने के लिए गई थी। घटना के लगभग एक साल बाद अप्रैल 2018 में लड़की ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के घर के बाहर खुद को आग लगाने की कोशिश की थी।

मालूम हो कि पीड़ित लड़की के पिता जो उसका केस लड़ रहे थे, कथित रूप से उनकी मौत कुलदीप सेंगर के भाई द्वारा गंभीर रूप से पिटाई के बाद हो गई थी। उन्नाव के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर रेप के आरोप में इस समय सीतापुर जेल में निरुद्ध हैं। उनपर रेप पीड़िता के पिता की हत्या की साजिश का भी आरोप है। इस मामले का ट्रायल सीबीआई कोर्ट में चल रहा है। सीबीआई इस मामले में चार्जशीट दायर कर चुकी है।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top