'वायु' ने बदला रास्‍ता, गुजरात तट से नहीं टकराएगा चक्रवात

लखनऊ। चक्रवात 'वायु' को लेकर एक राहत की खबर आ रही है। मौसम विभाग ने गुरुवार को कहा कि चक्रवात 'वायु' ने अपना रास्ता बदल लिया है और अब इसके गुजरात तट से टकराने की संभावना नहीं है। यह वेरवाल, पोरबंदर, द्वारका के नजदीक होते हुए गुजरेगा। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा, ''इसके (चक्रवात वायु के) तट से टकराने की संभावना नहीं है। यह केवल तट के किनारे से गुजरेगा। इसके मार्ग में हल्का बदलाव आया है लेकिन, इसका प्रभाव वहां होगा, तेज हवाएं चलेंगी और भारी बारिश होगी।'' मौसम विज्ञान विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक देवेंद्र प्रधान ने बताया कि चक्रवात समुद्र में रहेगा और गुजरात तट के किनारे-किनारे गुजरेगा।

देवेंद्र प्रधान ने कहा कि इसने थोड़ा सा पश्चिम की तरफ रुख कर लिया है। यह गुजरात तट के किनारे-किनारे गुजरेगा। चक्रवात चेतावनी प्रभाग ने सुबह साढ़े आठ बजे के बुलेटिन में कहा कि काफी संभावना है कि यह कुछ समय तक उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा की तरफ चलेगा और फिर उत्तर पश्चिमी दिशा में सौराष्ट्र तट के किनारे से गुजरेगा जिससे गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर और देवभूमि द्वारका प्रभावित होंगे। इस दौरान 135 से 145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जो 13 जून को दोपहर बाद 160 किलोमीटर प्रति घंटे रफ्तार की हवाओं में तब्दील हो सकती हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के साथ बिश्केक पहुंचने पर चक्रवाती तूफान वायु की तैयारियों को लेकर फोन पर बातचीत की। उन्होंने केंद्र सरकार की तरफ से राज्य को पूरी सहायता और समर्थन का आश्वासन दिया।

वहीं गुजरात में हाईअलर्ट रहेगा, क्योंकि मौसम काफी खराब हो सकता है। कई इलाकों में बारी बारिश हुई हैं साथ ही तेज हवाएं भी चल रही हैं। प्रशासन ने किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयारी कर रखी है। चक्रवात वायु ने रात भर में अपना रास्ता बदल लिया है। गुजरात से टकराने वाले चक्रवात ने अपना रास्ता बदलकर समुद्र की ओर रुख किया है।




एएनआई के अनुसार पोरबंदर में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की छह टीमें अलर्ट पर हैं। एनडीआरएफ टीम के (30 सदस्यों) चौपाटी समुद्र तट पर स्टैंडबाय के रूप में तैनात हैं।

गुजरात के राजकोट में विभिन्न समूह चक्रवाती तूफान वायु के मद्देनजर खाने के पैकेट बना रहे हैं। सरकारी अधिकारियों के निर्देशानुसार खाने के यह पैकेट राज्य के तूफान प्रभावित इलाकों में भेजे जाएंगे।

रेलवे ने चक्रवात वायु के चलते 77 ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इसके अलावा 33 अन्य ट्रेनें आंशिक रूप से रोक दी गई हैं। यह जानकारी बृहस्पतिवार को पश्चिमी रेलवे ने दी। चक्रवात ने अपना रास्ता बदल लिया है और अब गुजरात तट से इसके टकराने की संभावना नहीं है, लेकिन फिर भी एहतियात के तौर पर ये ट्रेनें रद्द की गई हैं।

रेलवे ने कहा, गुजरात को लेकर चक्रवात वायु के संबंध में जारी अलर्ट पर विचार करते हुए पश्चिमी रेलवे ने चक्रवात जोखिम वाले क्षेत्रों में एहतियात के तौर पर 77 प्रमुख ट्रेनों का परिचालन पूरी तरह और 33 अन्य प्रमुख ट्रेनों का परिचालन आंशिक रूप से रोकने का फैसला किया है। वेरावल-अमरेली, अमरेली-जूनागढ़, देलवाडा-वेरावल ट्रेनों को बुधवार और बृहस्पतिवार के लिए रद्द किया गया है। (इनपुट भाषा)


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top