डेरा प्रमुख को आज सुनाई जाएगी सजा, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश

डेरा प्रमुख को आज सुनाई जाएगी सजा, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेशबढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

चंडीगढ़। रेप केस में दोषी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के लिए आज सजा का ऐलान किया जाएगा। राम रहीम रोहतक जेल में बंद हैं। जेल के आसपास किसी भी संदिग्ध को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं। शुक्रवार को हुई हिंसा के मद्देनजर सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है. इसलिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। हरियाणा और पंजाब में भारतीय सेना की 28 टुकड़ियां तैनात की गई हैं।

जानकारी के मुताबिक, पंजाब के मुक्तसर, मनसा जिलों और हरियाणा के सिरसा और पंचकूला में सेना को तैनात किया गया है। सेना की एक टुकड़ी में करीब 100 से 120 जवान होते हैं। हरियाणा के एडीजीपी (लॉ एंड ऑर्डर) मो. अकील ने बताया कि रोहतक में अर्धसैनिक बलों की 23 कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके साथ ही रोहतक, सिरसा, अंबाला, पंचकूला सहित कई जिलों में धारा 144 लागू रहेगी। सरकार ने हिंसा करने वालों से सख्ती से निपटने के निर्देश जारी किए हैं।

किसी संदिग्ध को देखते ही गोली मारने के आदेश

रोहतक रेंज के आईजी नवदीप ने बताया कि राम रहीम को होने वाली सजा के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवान सुरक्षा में तैनात रहेंगे। सभी जजों के आवासों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मीडिया की सुरक्षा के साथ उनके कवरेज के लिए जगह निश्चित की गई है। जेल के अंदर ही कोर्ट रूम बनाया गया है। डेरा के किसी भी समर्थक को शहर में घुसने नहीं दिया जाएगा। जेल के पास किसी भी संदिग्ध को देखते ही गोली मारने के आदेश हैं।

सीमा सील, आने वाले प्रत्येक शख्स की तलाशी

रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार ने बताया कि जिले में हालत पूरी तरह नियंत्रण में है। पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान किसी भी स्थिति से निबटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा कि रोहतक आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की तलाशी ली जा रही है। जांच के दौरान जो भी व्यक्ति पहचान पत्र नहीं दिखा पाता है या आने का सही कारण नहीं बता पाता है तो उसे हिरासत में ले लिया जाएगा। रोहतक की सीमा पर नाका बनाए गए हैं. ड्यूटी मजिस्ट्रेट को तैनात किया गया है।

रोहतक पहुंचे आलाधिकारी, सीएम को रिपोर्ट

एडीजीपी अकील मोहम्द ने चेतावनी दी है कि कोई भी डेरा समर्थक बाहर दिखा, तो यह उनके लिए अच्छा नहीं होगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने रोहतक जेल की सुरक्षा को लेकर उच्च अधिकारीयों की टीम भेजी है। एडीजीपी और सीआईडी प्रमुख अनिल राव हेलीकॉप्टर से सीधे रोहतक जेल पहुंच चुके हैं। इन अधिकारीयों ने जेल और शहर नाकेबंदी के सुरक्षा के इंतजामों का जायजा लिया है। यह टीम सुरक्षा के इंतजामों के बारे में लगातार सीएम को अपनी रिपोर्ट दे रही है।

आस्था या व्यक्ति के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं : मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा हिंसा मामले का परोक्ष जिक्र करते हुए साफ कहा कि धर्म, आस्था, परंपरा या व्यक्ति के नाम पर हिंसा कतई बर्दाश्त नहीं होगी। कानून हाथ में लेने का किसी को हक नहीं है। ऐसा करने वालों को दंडित किया जाएगा। रविवार को रेडियो पर प्रसारित "मन की बात" कार्यक्रम में पीएम ने दो टूक कहा, सभी को कानून के समक्ष झुकना होगा। देश की जानता को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि ऐसे लोगों या किसी समूह को न तो यह देश और न ही कोई सरकार बर्दाश्त करेगी। जवाबदेही तय कर उन्हें दंडित किया जाएगा।"

चिट्ठी लिखकर साध्वी ने किया था खुलासा

बताते चलें कि साल 2002 में डेरा आश्रम में रहने वाली एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए डेरा प्रमुख पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस मामले में हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई थी। इस पर सुनवाई के बाद कोर्ट के आदेश पर साल 2001 में पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई। साल 2007 में सीबीआई द्वारा आरोप पत्र दाखिल करने के बाद कोर्ट ने केस पर सुनवाई शुरू की थी। 25 अगस्त को कोर्ट ने राम रहीम को इस केस में दोषी करार दिया था।

कितनी सजा संभव

  • धारा 376 : दुष्कर्म के दोषी को इसमें न्यूनतम सात साल से लेकर उम्रकैद तक की सजा का प्रावधान।
  • धारा 506 : जान से मारने की धमकी के जुर्म में दो साल तक जेल और जुर्माना।
  • धारा 354 : छेड़छाड़ के दोष में दो साल तक कैद और आर्थिक जुर्माना।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top