उपद्रवियों से निपटने के लिए पैलेट गन नहीं, चलेगी प्लास्टिक बुलेट

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   18 April 2017 12:07 PM GMT

उपद्रवियों से निपटने के लिए पैलेट गन नहीं, चलेगी प्लास्टिक बुलेटपैलेट गन का इस्तेमाल केवल विकल्प के तौर पर किया जाएगा। 

लखनऊ। आगे आने वाले समय में राज्य में इस तरह तनाव के हालात न आएं, इसके लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। उपद्रवियों से निपटने के लिए अब सेना पैलेट गन का इस्तेमाल नहीं करेगी। इसकी जगह प्लास्टिक बुलेट (गोली) का इस्तेमाल किया जाएगा।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

केंद्र सरकार की ओर से 1000 प्लास्टिक बुलेट कश्मीर घाटी में भेजा जा चुका है। इसके साथ ही सुरक्षाबलों को आदेश भी दिया गया है कि वो भीड़ को काबू करने के लिए पैलेट गन का इस्तेमाल ना करें।

आखिरी विकल्प होगी पैलेट गन

कश्मीर में पत्थरबाजों और उपद्रवियों को काबू में करने के लिए सुरक्षाबल पहली बार प्लास्टिक बुलेट का इस्तेमाल करेंगे। यही नहीं, गृह मंत्रालय की ओर से सुरक्षाबलों को आदेश दिया गया है कि अब पैलेट गन का इस्तेमाल आखिरी विकल्प के तौर पर करें। इसका मतलब, जब सुरक्षाबलों को लगे कि अब हालात बहुत ज्यादा बिगड़ गए हैं तभी पैलेट गन को उठाएं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top