मोदी तो लाहौर गए पर मनमोहन में पाकिस्तान यात्रा का साहस नहीं था : महबूबा मुफ्ती

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   7 May 2017 11:30 AM GMT

मोदी तो लाहौर गए पर मनमोहन में पाकिस्तान यात्रा का साहस नहीं था : महबूबा मुफ्तीजम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती।

जम्मू (भाषा)। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने 25 दिसंबर, 2015 को लाहौर जाने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि यह मजबूती का संकेत है ना कि कमजोरी का। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर निशाना साधते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उनमें पाकिस्तान की यात्रा का साहस नहीं था।

एक पुल के उद्घाटन के अवसर पर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही कश्मीर की समस्या का हल कर सकते हैं क्योंकि उनको प्रचंड बहुमत मिला है। उन्होंने प्रधानमंत्री से घाटी को संकट से बाहर निकालने का आग्रह किया।।

गौरतलब है कि मुफ्ती सरकार घाटी में लगातार हो रहे प्रर्दशनों से जूझ रही है। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मौजूदा स्थिति संप्रग सरकार की विफलता के कारण पैदा हुए गुस्से का नतीजा है।

भाजपा के साथ राज्य में सरकार चला रही पीडीपी की नेता ने कहा, ‘‘मैं आज अधिकार के साथ यह बात कह रही हूं और इसके लिए मेरी आलोचना भी होगी। अगर कोई जम्मू-कश्मीर की समस्या का समाधान निकाल सकता है तो वे हैं प्रधानमंत्री मोदी।'' उन्होंने कहा, ‘‘उनके (प्रधानमंत्री के) पास प्रचंड बहुमत है, वह जो भी फैसला करेंगे, देश उनका समर्थन करेगा।''

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होंने 25 दिसंबर, 2015 को लाहौर जाने के प्रधानमंत्री मोदी के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि यह मजबूती का संकेत है ना कि कमजोरी का। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर निशाना साधते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उनमें पाकिस्तान की यात्रा का साहस नहीं था।

महबूबा ने जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2002 में ‘शांति के अध्याय' की शुरुआत का श्रेय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और अपने पिता मुफ्ती सईद को दिया।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top