केरल में बाढ़ की तबाही ने लीं 324 जानें, 100 बरसों में सबसे भयानक सैलाब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार सुबह बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने कोच्चि पहुंच चुके हैं। प्रधानमंत्री ने फौरी सहायता के तौर पर केरल को 500 करोड़ रुपए की राहत राशि देने का ऐलान किया है।

केरल में बाढ़ की तबाही ने लीं 324 जानें, 100 बरसों में सबसे भयानक सैलाब

केरल में बाढ़ के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। मौसम विभाग ने शनिवार को फिर से 11 जिलों में भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है। बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या 324 तक पहुंच चुकी है। स्थिति यह है कि कई जगह बाढ़ में मरने वालों के शव अब पानी पर उतराने लगे हैं जिससे प्रभावित इलाकों में बीमारियां फैलने का खतरा मंडराने लगा है। 8 अगस्त से अभी तक कुल 173 लोगों की जान जा चुकी है, अकेले 16 अगस्त को ही 106 लोगों की डूबने की वजह से जान चली गई। बाढ़ की वजह से राज्य को 8 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार सुबह बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने कोच्चि पहुंच चुके हैं। प्रधानमंत्री ने फौरी सहायता के तौर पर केरल को 500 करोड़ रुपए की राहत राशि देने का ऐलान किया है। मृतकों के परिजनों को 2 लाख और गंभीर रूप से घायल को 50,000 रुपए दिए जाएंगे। इससे पहले भी प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से 100 करोड़ की सहायता राशि का ऐलान किया जा चुका है।


पिछले 100 बरसों में सबसे भयानक बाढ़

केरल के 14 में से 12 जिलों में बाढ़ की वजह से हालात बहुत खराब हैं, यहां रेड अलर्ट जारी किया जा चुका है। इस बाढ़ को 100 बरसों में सबसे भयानक बाढ़ बताया जा रहा है। पानी भरने की वजह से कोच्चि एयरपोर्ट 26 अगस्त तक बंद किया जा चुका है। नेवी ने कोच्चि में अपनी हवाई पट्टी को नागरिक उड़ानों के लिए इस्तेमाल करने की पेशकश की है। कुछ जगहों पर बारिश थोड़ी थमी है, लेकिन सबसे खराब हालत पथनमथिट्टा, अलपुझा, एर्नाकुलम और त्रिशूर जिलों की है।

70 हजार परिवार बेघर

70 हजार परिवारों के 3.14 लाख लोग 2,094 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं। राहत और बचाव कार्य में वायुसेना के 22 विमान और सेना की बोट लगी हुई हैं। एनडीआरएफ की 39 टीमें रेस्क्यू ऑपरेशन में लगी हैं 14 और टीमें भेजी जा रही हैं। कोस्टगार्ड के तीन जहाजों को भी बचाव कार्य में लगा दिया गया है। रेलवे भी बचाव और राहत कार्य में जुटी हई है। रेलवे ने अब तक प्रभावित लोगों के बीच 1.2 लाख पानी की बोलतें बांटी हैं। इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने बाढ़ प्रभावित लोगों की सहायता के लिए डोनेशन की अपील की है। मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष के लिए अकाउंट नंबर भी जारी किए गए हैं। इनमें सीधे राहत राशि भेजी जा सकती है।

दूसरे देशों से भी आई मदद

केरल की त्रासदी को देखकर दूसरे देशों से भी मदद के हाथ बढ़े हैं। संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नाह्यान ने अपनी सरकार को आदेश दिया है कि केरल में प्रभावित लोगों की मदद के लिए एक नेशनल इमरजेंसी कमिटी बनाई जाए। इसी तरह ओमान के सुल्तान ने रॉयल ओमान एयर फोर्स को केरल के शहर त्रिवेंद्रम में भोजन, पानी और दूसरी राहत सामग्री लेकर जाने के आदेश दिए हैं।

Share it
Top