केरल सरकार किसानों को हर महीने देगी एक हजार की पेंशन

केरल सरकार किसानों को हर महीने देगी एक हजार की पेंशनकिसान 

लखनऊ। किसानों को खेती किसानी करने में कोई समस्या न हो इसके लिए केरल की सरकार किसानों के लिए किसान कल्याण बोर्ड का गठन करने जा रही है।

इस बोर्ड के जरिए किसानों को वह सारी सुविधाएं दी जाएंगी, जिससे किसान खेती करते हुए अनाज उत्पादन बढ़ा सकें। किसानों के लिए समर्पित देश का यह अपनी तरह का पहला बोर्ड होगा। इस बोर्ड के जरिए अगर 60 वर्ष की उम्र के पहले यदि किसी किसान की मौत हो जाती है तो उसके परिजनों को बोर्ड की तरफ से 50 हजार रुपए दिए जाएंगे। केरल की सरकार आने वाले अपने विधानसभा सत्र में किसान कल्याण बोर्ड के गठन का कानूनी रूप देने की तैयारी कर रही है।

ये भी पढ़ें-प्रेस या सोशल मीडिया पर निराधार टिप्पणी करने वाले राज्य कर्मचारियों के खिलाफ कार्वाई होगी

केरल सरकार का विधि विभाग इस विषय को लेकर तैयारियां कर रहा है कि जिससे विधानसभा में किसान कल्याण बोर्ड के प्रस्ताव को विधानसभा में पास कर इसको कानूनी मान्यता दिया जा सके। 10 से लेकर 5 हेक्टेयर जमीन पर खेती करने वाले 60 साल से उपर के किसानों को हर महीने एक हजार रूपए की पेंशन भी किसान कल्याण बोर्ड की तरफ से किसानों को दी जाएगी। इस योजना से केरल के 3.5 लाख किसानों को फायदा मिलेगा। किसान की मृत्य होने पर उसकी विधवा को किसान की पेंशन को लाभ दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें-मेरे लिए सफ़र खत्म नहीं हुआ है - दर्शन कादियान

केरल सरकार किसानों के कल्याण के लिए किसानों को चिकित्सीय सुविधा के लिए दैनिक भत्ता देने के साथ ही किसानों के बच्चों का स्कालरशिप और किसान की बेटियों को शादी में आर्थिक सहायता भी देगी। किसानों के कल्याण के लिए केरल सरकार की तरफ किए जा रहे कामों की यह घोषणा दूसरे राज्य सरकारों के लिए भी एक नजीर बनेगी। घाटे का सौदा बन रही खेती से जिस तरह से आज किसान खेती से दूर हो रहा है, ऐसे में केरल सरकार की योजना से खेती से किसानों को पलायन रूकेगा। केरल में पिनाराई विजयन के नेत्रत्व में चल रही वाम लोकतांत्रिक की सरकार ने अपने प्रदेश के किसानों के लिए बहुत बड़ी घोषणा की है जिसका सीधा लाभ प्रदेश के लघु और सीमान्त किसानों को मिलेगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top