कर्नाटक में कुमारस्वामी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

विधानसभा के स्पीकर का पद भी कांग्रेस को मिला है, जबकि डिप्टी स्पीकर जेडीएस से होगा। गुरुवार को केआर रमेश कुमार को स्पीकर चुना जाएगा। कांग्रेस की ओर से जारी बयान में इसकी जानकारी दी गई। विधानसभा में शपथ ग्रहण समारोह शाम 4:30 बजे होगा।

कर्नाटक में कुमारस्वामी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

कर्नाटक में आज मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री एक साथ शपथ लेंगे। जेडीएस के एचडी कुमारस्वामी सीएम और कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष जी परमेश्वर डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे। विधानसभा के स्पीकर का पद भी कांग्रेस को मिला है, जबकि डिप्टी स्पीकर जेडीएस से होगा। गुरुवार को केआर रमेश कुमार को स्पीकर चुना जाएगा। कांग्रेस की ओर से जारी बयान में इसकी जानकारी दी गई। विधानसभा में शपथ ग्रहण समारोह शाम 4:30 बजे होगा।
कैबिनेट को लेकर भी बनी सहमति
इसके साथ ही कांग्रेस-जेडीएस में मंत्रियों की संख्या को लेकर भी सहमति बन गई है। कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने बताया, "मीटिंग में कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा हुई। 34 मंत्रियों में से 22 कांग्रेस से होंगे। जबकि, सीएम समेत 12 मंत्री जेडीएस से होंगे। फ्लोर टेस्ट के बाद मंत्रियों के पोर्टफोलियों के बंटवारे पर फैसला लिया जाएगा।
समारोह में यूपी के पूर्व सीएम भी होंगे शामिल
जानकारी के अनुसार छह राज्यों के सीएम के अलावा यूपी से सपा चीफ अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीमो मायावती, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी, आरजेडी से तेजस्वी यादव, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव सुधाकर रेड्डी, डी. राजा के अलावा नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला मंच पर दिखाई देंगे। इसे बीजेपी के खिलाफ 2019 आम चुनावों के लिए अस्तित्व में आ रहे महागठबंधन की झलक की तरह भी देखा जा रहा है।
इससे पहले कर्नाटक सियासी संग्राम के बाद आखिर में येदियुरप्पा ने बहुमत परीक्षण से पहले विधानसभा के भीतर अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया था। बीजेपी विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा जुटाते नहीं दिख रही थी ऐसे में येदियुरप्पा ने इस्तीफा देना ही बेहतर समझा। कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की ओर से सीएम पद के उम्मीदवार कुमारस्वामी को राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्योता दे दिया था। राज्यपाल की ओर से येदियुरप्पा सरकार को बहुमत सिद्ध करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया गया था जबकि येदियुरप्पा खुद 7 दिन में बहुमत सिद्ध करने का दावा करते रहे थे। कांग्रेस-जेडीएस की याचिका के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट की मियाद को कम करके 24 घंटे कर दिया गया था।

Share it
Share it
Share it
Top