पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अल्टीमेटम : ‘ जनप्रतिनिधि अपने काम से बच नहीं सकते ’

पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अल्टीमेटम : ‘ जनप्रतिनिधि अपने काम से बच नहीं सकते ’मध्य प्रदेश में पंचायती राज दिवस को संबोधित करते पीएम मोदी।

जबलपुर। राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ जहां अच्छा काम करने वाले प्रधानों-सरपंचों की सराहना की वहीं, लापरवाही और सुस्त राफ्तार वाले प्रधानों और जनप्रतिनिधियों को अल्टीमेटम भी दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि जनप्रतिनिधि अपने काम से बच नहीं सकते है।

मध्य प्रदेश के जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय ग्रामीण स्वरोजगार अभियान का उद्धघाटन किया। समारोह में पूरे देश से करीब 50 हजार जनप्रतिनिधि (पंचायत) पहुंचे हुए हैं। समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “बापू के सपनों का पूरा करने का अहम मौका है। बापू ने हमेशा गांवों के महत्व पर प्रकाश डाला और 'ग्राम स्वराज' के बारे में बात की।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब ग्रामीण विकास की बात आती है, तो बजट महत्वपूर्ण होते हैं। लेकिन, पिछले कुछ सालों में बदलाव आया है। लोग अब यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता के बारे में बात कर रहे हैं कि एक परियोजना के लिए आवंटित धन का उपयोग किया जाता है और यह पारदर्शी तरीके से किया जाता है।

#LIVE देखिए और सुनिए प्रधानमंत्री मोदी का भाषण

नेता और अधिकारी गाँव के विकास के लिए प्रण लें तो गाँव की सूरत बदल सकती है। बजट का सही प्रयोग करना होगा तभी गाँवों में विकास नजर आएगा। जनप्रतिनिधियों को सोचना चाहिए कि, वो जनता के सेवके हैं, सरकार के नहीं। जनप्रतिनिधि अगर ठान लें तो गाँव का कायाकल्प हो सकता है। पंचायती राज दिवस पर सभी पंचायत के प्रतिनिधि संकल्प करें कि हमारे गांव में कोई भी बच्चा पढाई से वंचित ना रह जाएं।

ये भी पढ़ें- टिप्पणी : पंचायती राज को आरक्षण ने तहस नहस कर दिया 

ये भी पढ़ें- पंचायती राज दिवस : यूपी में ग्राम पंचायत का सालाना बजट 20-40 लाख , फिर गांव बदहाल क्यों ?

24 अप्रैल को पंचायती राज दिवस के मौके पर गांव कनेक्शन साप्ताहिक का विशेष अंक (पेज-एक)

Share it
Top