मध्य प्रदेश के चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव में 62 फीसदी मतदान 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   9 Nov 2017 7:32 PM GMT

मध्य प्रदेश के चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव  में 62 फीसदी मतदान मध्य प्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव ।

सतना/भोपाल (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के लिए गुरुवार को हुए मतदान में लगभग 62 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के भोपाल कार्यालय के जनसंपर्क अधिकारी प्रलय श्रीवास्तव के अनुसार, सुबह आठ बजे मतदान शुरू हो गया, और शाम तक जो सूचनाएं आई हैं, उसके मुताबिक 62 प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर चुके थे। मतदान प्रतिशत का आंकड़ा और भी बढ़ सकता है। इस दौरान कहीं से भी गड़बड़ी की कोई सूचना नहीं मिली है।

वहीं सूत्रों का कहना है कि, दो मतदान केंद्रों- बैराहना और बिछियन के मतदाताओं ने सड़क सहित अपनी अन्य समस्याओं को लेकर मतदान का बहिष्कार किया। देर शाम तक मतदाताओं को मनाने में प्रशासन लगा रहा।

चित्रकूट उपचुनाव के लिए 257 मतदान केंद्र बनाए गए। शाम पांच बजे तक चले मतदान में 12 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद हो गया। यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस के नीलांशु चतुर्वेदी और भाजपा के शंकर दयाल त्रिपाठी के बीच है।

चित्रकूट के विधानसभा क्षेत्र में एक लाख 98 हजार 122 मतदाता हैं। इनमें एक लाख छह हजार 390 पुरुष, 91 हजार 730 महिला और दो थर्ड जेंडर शामिल हैं। मतगणना रविवार (12 नवंबर) को होगी।

आधिकारिक ब्यौरे के मुताबिक, चित्रकूट उपचुनाव में 385 ईवीएम के साथ 382 वीवीपैट मशीन भी लगाई गई। वीवीपैट से मतदाता यह देख सके कि उन्होंने जो वोट दिया है, वह सही है या नहीं। इसके लिए उन्हें सात सेकंड का समय मिला।

उत्तर प्रदेश की सीमा पर स्थित इस विधानसभा क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए। सीमा को सील किया गया, वहीं केंद्रीय अर्धसैनिक बल की नौ कंपनियों ने निर्वाचन क्षेत्र में सुरक्षा का मोर्चा संभाला। मध्य प्रदेश एसएएफ कंपनी के अलावा स्थानीय पुलिस बल को भी क्षेत्र में तैनात किया गया।

कांग्रेस विधायक प्रेम सिंह का निधन होने के चलते चित्रकूट विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव हो रहा है। बीते तीन चुनाव से प्रेम सिंह ही जीतते आ रहे थे। इस उपचुनाव में कांग्रेस से यह सीट छीनने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंकी। नतीजे ही बताएंगे कि मतदाताओं ने किसे चुना।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top