तीन बार तलाक बोलने की प्रथा को डेढ़ साल में खुद खत्म कर देगा मुस्लिम लॉ बोर्ड : सादिक 

तीन बार तलाक बोलने की प्रथा को डेढ़ साल में खुद खत्म कर देगा मुस्लिम लॉ बोर्ड : सादिक गाँव कनेक्शन (प्रतीकात्मक फोटो)

बिजनौर (भाषा)। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष मौलाना कल्बे सादिक का कहना है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड खुद ही अगले एक-डेढ़ साल मेंं एक-साथ तीन बार तलाक बोलने की प्रथा को खत्म कर देगा और सरकार को इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मौलाना ने मुसलमानोंं को बीफ खाने से बचने की भी सलाह दी। उन्होंने सोमवार रात यहां हजरत अली के जन्म दिन पर आयोजित मुशायरे से इतर जिला दीवानी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष के आवास पर संवाददाताओंं से बातचीत में कहा कि एक-साथ तीन बार तलाक बोलने वाली प्रथा महिलाओं के पक्ष में गलत है। लेकिन यह समुदाय का निजी मसला है और वे खुद एक-डेढ़ साल के भीतर इसे सुलझा लेंंगे। उन्होंने कहा कि सरकार को इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

धार्मिक पुस्तकों को बीफ खाने की सलाह नहीं दी गयी

बीफ खाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि धार्मिक पुस्तकों को बीफ खाने की सलाह नहीं दी गयी है और मुसलमानों को यह नहींं खाना चाहिए। मौलाना ने कहा, यदि सरकार देश में गोवध और बीफ खाने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कोई कानून लाती है तो मुसलमान उसका स्वागत करेंगे। उन्होंने कथित गोरक्षकों की गैरकानूनी गतिविधियोंं की आलोचना करते हुए उन्हें बंद करने की मांग की।

अयोध्या मामले में मुसलमानों की ज़िद गलत

राम मंदिर के मामले पर, उन्होंने कहा कि विवाद अब खत्म होना चाहिए और हिन्दुओं तथा मुसलमानों को एक आधार तैयार करना होगा ताकि कोई समझौता हो सके। उन्होंने कहा कि मुसलमानों को वहां मस्जिद बनाने की जिद नहीं करनी चाहिए जहां मंदिर बनना है। सादिक ने मुसलमानों की खराब हालत के लिए समुदाय के नेताओं को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि कश्मीरी युवाओं को अपनी आंखेंं खुली रखनी चाहिए और पाकिस्तान की खराब मंशा को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत को समृद्ध बनने के लिए एकजुट रहना चाहिए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top