पनामा पेपर मामले पर नवाज शरीफ को चेतावनी - अगर सात दिनों में इस्तीफा नहीं दिया, तो देशभर में करेंगे आंदोलन

पनामा पेपर मामले पर नवाज शरीफ को चेतावनी - अगर सात दिनों में इस्तीफा नहीं दिया, तो देशभर में करेंगे आंदोलनपाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

नई दिल्ली। पनामा पेपर मामले के आरोपी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने चेतावनी दी कि अगर उन्होंने सात दिनों में सत्ता नहीं छोड़ी, तो वे उनके खिलाफ देशभर में आंदोलन शुरू करेंगे।

दोनों बार एसोसिएशन की ओर से जारी साझा बयान में कहा गया है, ''दोनों बार एसोसिएशन का मानना है कि पनामा पेपर्स मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के मद्देनजर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अब अपने पद बने नहीं रहना चाहिए और इस्तीफा दे देना चाहिए।'' उन्होंने कहा कि पनामा मामले ने इस बात का स्पष्ट संकेत दिया है कि शरीफ और उनके बच्चों ने वित्तीय अनियिमताएं और भ्रष्टचार किए तथा जांच के लिए जेआईटी का गठन किया गया है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस मामले की शुरुआत 3 नवंबर से मानी जाती है। न्यायालय ने 23 फरवरी को कार्यवाही पूरी करने से पहले 35 सुनवाई की थीं। मामला लंदन में शरीफ के परिवार की कथित अवैध संपत्तियों से जुड़ा है।

पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ प्रमुख इमरान खान और अन्य की कई एक जैसी याचिकाओं दाखिल कर रखी हैं। इन संपत्तियों का खुलासा पनामा पेपर्स में हुआ था। पनामा पेपर्स के मुताबिक प्रबंधन शरीफ के परिवार के मालिकाना हक वाली विदेशी कंपनियां करती थीं। याचिकाओं में न्यायालय से अपील की गई है कि भ्रष्टाचार में लिप्त होने के कारण 67 वर्षीय शरीफ को अनुच्छेद 62 और 63 के तहत अयोग्य करार दिया जाए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top