वर्ल्ड पेंगुइन डे : विलुप्त होने के कगार पर सुंदर और आकर्षक पक्षी

वर्ल्ड पेंगुइन डे : विलुप्त होने के कगार पर सुंदर और आकर्षक पक्षीफोटो: इंटरनेट साभार

लखनऊ। आज वर्ल्ड पेंगुइन डे है। देखने में बहुत सुंदर और अन्य पक्षियों से इक दम अलग इस जल समूह के पक्षी सहित अन्य कई प्रजातियों का अस्तित्व अब खतरे में हैं। पर्यावरणविदों ने इसके लिए चेतावनी दी है। उनका मानना है कि बदलता पर्यावरण इनके लिए घातक साबित हो रहा है।

साउथ अफ्रीका में पेंगुइन की आबादी में पिछले 13 सालों में 70 प्रतिशत तक की गिरावट आई है क्योंकि मछली पकड़ने के बेड़े में सार्डिन को लक्ष्य बनाया जा रहा है। इंडिपेंडेंट वेबसाइट के अनुसार एन्कोवी (नमकीन स्वाद की छोटी मछली) सहित अन्य समुद्री जीवों का खाने के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। ये मछलियां पेंगुइन का खाना हुई करती है। डब्लूडब्लूएफ़, बर्ड लाइफ यूरोप और वर्ल्ड फार्मिंग सहित पर्यावरण समूहों के गठबंधन ने विश्व पेंग्विन दिवस पर आज घोषणा की कि वे अक्टूबर में लंदन में 'विलुप्त होने और पशुधन' सम्मेलन को आयोजित करेंगे ताकि हम इस समस्या का समाधान खोज सकें।

“पेंगुइन के बारे में प्यार करने के लिए बहुत कुछ है, वे प्यारे हैं, वे शानदार तैराक हैं जो गोताखोरी के लिए बहुत गहराई तक जाने में सक्षम होते हैं और हर साल हजारों किलोमीटर प्रवास करते हैं। अंटार्कटिक प्रजातियां अपने युवाओं को बढ़ाने के लिए धरती पर सबसे ज्यादा चरम स्थितियों को सहन करती हैं। मॉर्गन फ्रीमैन वॉयसओवर के योग्य माना जाता है।

ग्लोबल कार्यक्रमों के डब्लूडब्लूएफ के कार्यकारी निदेशक ग्लिनन डेविस ने कहा, " पेंगुइन प्रजातियों की गिरावट एक खतरनाक स्तर तक पहुंच रही है और हम इसकी अनदेखी नहीं कर सकते। डेविस ने कहा कि अगर हमें प्रकृति को ठीक करना है, तो हमें एक साथ काम करने और टिकाऊ कृषि प्रणालियों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है जो प्रदूषण को सीमित करे, रहने वाले स्थान को कम करे और प्रजातियों की संख्या को फिर से पुरानी स्थिति पर ले आए। मुख्य कार्यकारी डेड जोन, व्हेयर दी वाइल्ड थिंग वेयर के लेखक फिलीप लैंबली ने कहा कि इससे पहले कि बहुत देर हो जाए हमें इस क्रूर विनाश को रोकना होगा। उनका कहना है कि "विलुप्त होने और पशुधन सम्मेलन दुनियाभर के लोगों को एक साथ लाएगा ताकि सब लोग बैठकर अपनी भूमिका तय करें और समाधान की ओर अग्रसर हों।

5 और 6 अक्टूबर को होने वाले सम्मेलन में वक्ताओं में पर्यावरणविद् जोनाथन पोर्रिट, मानव वैज्ञानिक जेन गुडॉल और डॉ हिलाल एल्वेर शामिल होंगे। इसके अलावा भोजन के अधिकार पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष संवाददाता भी शामिल होंगे। प्रकृति के संरक्षण के लिए काम कर रही अंतर्राष्ट्रीय संघ की सूची में अफ्रीकी पेंगुइन, स्फेनीसस डेमर्सस, गैलापागोस पेंगुइन, स्पिनीकस मेन्डीक्यूलस और पीले आंखों का पेंगुइन, मेगैडिप्टस एंटीपोड्स, उन श्रेणियों में से हैं जो लुप्त होने की कगार पर हैं। 18 प्रजातियों में से 10 प्रजातियों को लुप्तप्राय या कमजोर रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मुख्य कार्यकारी डेड जोन, व्हेयर दी वाइल्ड थिंग वेयर के लेखक फिलीप लैंबली ने कहा कि इससे पहले कि बहुत देर हो जाए हमें इस क्रूर विनाश को रोकना होगा। उनका कहना है कि “विलुप्त होने और पशुधन सम्मेलन दुनियाभर के लोगों को एक साथ लाएगा ताकि सब लोग बैठकर अपनी भूमिका तय करें और समाधान की ओर अग्रसर हों।

बर्ड लाइफ इंटरनेशनल अपने संरक्षण को बढ़ावा देने के प्रयास में दुनिया भर से पेंगुइन के बारे में कहानियां साझा कर रहा है। "सुंदर। प्रेरणादायक। खतरे में। पेंगुइन दुनिया के सबसे आकर्षक और पहचानने वाले पक्षियों में से हैं, लेकिन दक्षिण ध्रुव से लेकर भूमध्य रेखा तक, खतरों की एक धारा उन्हें विलुप्त होने की ओर ले जा रहा है। बर्ड लाइफ इंटरनेशनल ने अपने वेबसाइट पर कुछ ऐसा लिखा है।

"कुछ पक्षी सिर्फ जनता का ध्यान आकर्षित करते हैं पफिन ( एक प्रकार की काली सफेद चिडिया), तोते, अल्बाट्रोस (एक बड़ा समुद्री पक्षी) और उल्लू, वे कहानियां और गीतों को प्रेरित करते हैं, और हम अपने घरों को उनकी छवियों के साथ सजाने के लिए करते हैं। लेकिन पक्षियों का एक समूह जो अन्य किसी की तुलना में मानव जाति की अधिक सराहना का हकदार है वो है पेंगुइन।

"पेंगुइन के बारे में प्यार करने के लिए बहुत कुछ है, वे प्यारे हैं, वे शानदार तैराक हैं जो गोताखोरी के लिए बहुत गहराई तक जाने में सक्षम होते हैं और हर साल हजारों किलोमीटर प्रवास करते हैं। अंटार्कटिक प्रजातियां अपने युवाओं को बढ़ाने के लिए धरती पर सबसे ज्यादा चरम स्थितियों को सहन करती हैं। मॉर्गन फ्रीमैन वॉयसओवर के योग्य माना जाता है।

"वे न्यूजीलैंड के जंगलों से गैलापागोस के ज्वालामुखीय द्वीपों तक और दक्षिणी अफ्रीका के समुद्र तटों से लेकर सुबांटार्क्टिक द्वीप समूह तक रहने वाले कई स्थानों पर उनका कब्जा है। लेकिन बहुत सी अच्छी अन्य प्रजातियों की तरह हम इन्हें बचाने के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं कर रहे हैं और ये विलुप्त होने की कगार पर हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top