दुनिया

अमेरिका और रुस के संबंध अब तक के सबसे निचले स्तर पर हैं: ट्रंप 

वाशिंगटन (भाषा)। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका और रुस के संबंध शायद इस समय सबसे निचले स्तर पर हैं, लेकिन उन्होंने यह उम्मीद भी जताई है कि यदि दोनों देश एक साथ आ जाएं तो बहुत अच्छा रहेगा।

नाटो के सचिव जनरल जेन्स स्टोल्टनबर्ग के साथ व्हाइट हाउस में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘‘जैसा कि हम कुछ समय पहले चर्चा कर रहे थे, यदि नाटो और हमारा देश रुस के साथ तालमेल बना सके। इस समय हमारा रुस के साथ बिल्कुल तालमेल नहीं है। रुस के साथ हमारा संबंध संभवत: अब तक के सबसे निचले स्तर पर है।''

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ट्रंप ने कहा, ‘‘ऐसा लंबे समय से होता आया है। लेकिन हम देखेंगे कि क्या हो सकता है। पुतिन रुस के नेता हैं और रुस एक मजबूत देश है। हम एक बेहद मजबूत देश हैं। देखते हैं कि यह कैसे संभव हो पाता है।'' विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने हाल ही में अपनी पहली रुस यात्रा पूरी की है। इस दौरान वह अपने रुसी समकक्ष और रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मिले थे।

मैं कुछ ही समय में रेक्स टिलरसन से बात करुंगा। मुझे लगता है रुस में उनकी बैठक बेहद सफल रही है। हम अंतिम नतीजे पर गौर करेंगे और यह नतीजा संभवत: लंबे समय बाद आएगा। लेकिन सबसे अहम तो अंतिम नतीजा ही है, सिर्फ बातें नहीं। मैं जो कुछ सुन रहा हूं, उससे मुझे लगता है कि सबकुछ अच्छा रहा है, जितना सोचा था, उससे कहीं अच्छा।
डोनाल्ड ट्रंप, राष्ट्रपति, अमेरिका

ट्रंप ने उम्मीद जताई कि यूरोपीय देशों को रुस से डरने की जरुरत नहीं होगी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसी उम्मीद के साथ बात शुरु करना चाहता हूं कि संभवत: उन्हें किसी भी चीज से डरने की जरुरत नहीं होगी। इस समय, एक तरह का डर व्याप्त है। निश्चित तौर पर समस्याएं भी हैं। लेकिन मैं उम्मीद जताता हूं कि अंतत: कोई डर या समस्याएं नहीं होंगी और दुनिया एकसाथ आगे बढ़ सकेगी। यह एक आदर्श स्थिति होगी।'' स्टोलटनबर्ग ने कहा कि नाटो और उसके सदस्य देशों को रुस से बात करने के तरीके निकालने की जरुरत है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि रुस के साथ राजनीतिक वार्ता की पहली शर्त यह है कि हम मजबूत हैं और एकजुट हैं। इसके आधार पर हम रुस से बात कर सकते हैं क्योंकि रुस हमारा पडोसी है। रुस यहां रहने वाला है। इसलिए हमें रुस के साथ अपने संबंधों के प्रबंधन के तरीके तलाशने हैं।'' नाटो प्रमुख ने कहा कि अमेरिका और राष्ट्रपति ने स्पष्ट तौर पर यह कहा है कि वह रुस के साथ संवाद चाहते हैं लेकिन गठबंधन में एकजुटता और मजबूती के आधार पर।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।