मुझ पर तीन बार हमला हुआ, किसी तरह मेरी जान बची: अमित शाह

अमित शाह ने कहा कि वह बाहरी नहीं हैं, वह बीजेपी अध्यक्ष के रूप में बीजेपी के प्रचार के लिए बंगाल जाते हैं। उन्होंने ममता बनर्जी से पूछा कि जब ममता बनर्जी दिल्ली आती हैं तो क्या उन्हें बाहरी कहा जाएगा?

लखनऊ। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में हिंसा के बाद विवाद बढ़ता जा रहा है। अमित शाह ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के इस आरोप को खारिज कर दिया कि वह पश्चिम बंगाल के लिए बाहरी हैं। उन्होंने कहा कि वह पार्टी के प्रचार के लिए बंगाल आते रहते हैं। शाह ने हैरानी जताई कि पश्चिम बंगाल आने के लिए उन्हें बाहरी कहा जाएगा जो भारत का हिस्सा है, तो फिर जब ममता बनर्जी दिल्ली आती हैं तो उन्हें बाहरी क्यों नहीं कहा जाए? शाह ने आरोप लगाया कि टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उन पर एक नहीं तीन-तीन बार हमले किए। सीआरपीएफ के जवानों की वजह से किसी तरह मेरी जान बची।

शाह ने कहा, "मैं एक राष्ट्रीय पार्टी का अध्यक्ष हूं और यहां अपनी पार्टी का प्रचार करने के लिए आया हूं। मुझे पश्चिम बंगाल आने के लिए बाहरी कहा जा रहा है। यह किस तरह का बयान है? अगर पश्चिम बंगाल का कोई व्यक्ति मुंबई या बेंगलुरु जाता है तो क्या उसे बाहरी कहा जाएगा? जब ममता दीदी दिल्ली जाती हैं तो उन्हें बाहरी कहना चाहिए?"



ममता बनर्जी ने कहा था कि शाह एक बाहरी हैं जो राज्य में लोगों के बीच विभाजन पैदा करने के लिए आते हैं। शाह ने कहा, अगर बीजेपी पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव जीतती है तो एक बंगाली ही मुख्यमंत्री होगा। न तो मैं और न ही कैलाश विजयवर्गीय मुख्यमंत्री बनेंगे। कैलाश विजयवर्गीय मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वह बंगाल में पार्टी मामलों के प्रभारी हैं।

शाह ने उत्तर कोलकाता में उनके रोडशो के दौरान मंगलवार को हुई हिंसा के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराने वाले मीडिया के एक वर्ग की भी आलोचना की। बीजेपी प्रमुख ने कहा, "मीडिया का एक वर्ग इसे इस तरह से पेश कर रहा है कि जैसे हमने संघर्ष शुरू किया था। खबर यह होनी चाहिए कि टीएमसी के गुंडों ने काफिले पर हमला किया। लेकिन समाचार संगठनों का एक वर्ग अलग तरह से इसे चित्रित करने की कोशिश कर रहा है। आपको बता दें कि मंगलवार को कोलकाता में हुए अमित शाह के एक रोड शो के दौरान बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए थे। हालांकि शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान तक ले गई।

टीएमसी ने चुनाव आयोग से मांगा समय

टीएमएसी ने शाह के रोड शो में हुई हिंसा के बाद चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का आरोप है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बांग्ला लेखक ईश्वर चंद्र वद्यिासागर की प्रतिमा गिराई है और इस पर चुनाव आयोग को कार्रवाई करनी चाहिए। टीएमसी ने ट्वीट किया, "डेरेक ओब्रायन, सुखेंदु शेखर राय, मनीष गुप्ता, नदीमुल हक वाली तृणमूल संसदीय टीम कोलकाता में शाह के रोड शो के बाद बंगाल की संपदा पर हुए हमले को लेकर चुनाव आयोग से मुलाकात करना चाहती है। बीजेपी के बाहरी गुंडों ने आगजनी की और वद्यिासागर की प्रतिमा को तोड़ दिया।"



पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अमित शाह पर आक्रामक रूख अपनाते हुए कहा कि क्या वह भगवान हैं जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता? ममता बनर्जी ने उत्तरी कोलकाता स्थित विद्यासागर कॉलेज का दौरा करने के बाद संवाददाताओं से कहा, "अमित शाह खुद को क्या समझते हैं? क्या वह सबसे ऊपर हैं? क्या वह भगवान हैं जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता?" ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि वे इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी। वे सभी बाहरी लोग हैं। बीजेपी मतदान वाले दिन के लिए उन्हें लाई है




More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top