Top

इस बार फालसा, आड़ू जैसे मौसमी फलों के नहीं मिले खरीददार

Mohit SainiMohit Saini   8 Jun 2020 4:10 AM GMT

मेरठ (उत्तर प्रदेश)। आड़ू, आम और फालसा जैसे मौसमी फलों का व्यवसाय करने वाले किसानों को साल भर इस समय का इंतजार रहता है, लेकिन इस बार लॉकडाउन से किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ा।

मेरठ में फालसा आड़ू व आम की खेती कर रहे गंगाराम को इस बार बड़ा झटका लगा है, वह बताते हैं, "हमने इस बार 81 हजार रुपए में बाग ली, लेकिन कुछ ही दिन बाद लॉकडाउन लग गया और आड़ू व फालसा की फसल पूरी तरह तैयार हैं उधर आम का सीजन भी आ गया हैं, हमें तो इस बार बड़ा झटका लगा है, पूरा परिवार बाग की निगरानी में लगा है छोटे बच्चे से लेकर बड़े सब लोग बाग की देखभाल में लगे हैं, लेकिन अब माल लेकर मंडी लेकर जाते भी है तो सही दाम नहीं मिल रहा, बस यही है अब जो सर्किट हाउस में लोग सुबह शाम घूमने आते है वो ही कुछ माल यहां से ले जाते है जिस से कुछ हमारी जमा राशि का हिस्सा निकल रहा हैं।

पेड़ों पर फालसा व आड़ू की भरमार फसल

गंगाराम बताते हैं कि इस समय फालसा व आड़ू की अच्छी पैदावार है, लेकिन लॉकडाउन से बड़ा झटका इस बार लगा है। इस बार माल यहीं से बेचा जा रहा हैं जो लोग सर्किट हाउस में घूमने आते हैं वो ही लोग यहां से खरीद कर ले जाते हैं, लेकिन इस मार्केट ही नहीं खुली।


81 हजार में सालभर के लिए ठेके पर लिया है बाग

गंगाराम आगे बताते हैं इस बार 81 हजार में बाग लिया हैं, 30 हजार रुपए हमने जमा भी कर दिए अधिकारी को लेकिन हमारे साथ सबसे बड़ी समस्या पानी की है यहां के अधिकारी लोग पानी समय पर नहीं मिलता, मिलता भी है तो बहुत कम ही समय के लिए मिलता हैं, इस भीषण गर्मी में पानी चाहिए वर्ना आम की फसल में जाले लग जाएंगे कुछ तो लॉकडाउन ने बर्बाद किया कुछ पानी न मिलने से बर्बाद हो जाएंगे।


200 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिकता है फालसा

गंगाराम आगे बताते हैं कि फालसा 200 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिकता है, बाग में 150 से लेकर 200 पेड़ हैं जिसमें फालसा के पेड़ हैं। यह इस लिए बिक जाता हैं क्योंकि इसमें आयरन सबसे ज्यादा पाया जाता है , लोग यही से 200 रुपए प्रति किलो के हिसाब से ले जाते हैं, सबसे ज्यादा जो सुबह को मॉर्निंग वाक के लिए आते है वह ही खरीद कर ले जाते हैं ।

आड़ू व आम के पेड़ सबसे बाग में सबसे ज्यादा हैं

गंगाराम आगे बताते है बाग में आड़ू व आम के सबसे ज्यादा पेड़ हैं आम की फसल पूरी तरह तैयार है, अगले महीने के पहले हफ्ते में आम चालू हो जाएगा आड़ू की फसल चल रही हैं , और फालसा भी लोग खरीदार यहाँ से ले जाते हैं ।

ये भी पढ़ें: झांसी: गेहूं बेचने के लिए मंडियों में 8-8 दिन किसानों ने किया इंतजार


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.