चुनावी सीजन ने उतारा प्रेम का खुमार

चुनावी सीजन ने उतारा प्रेम का खुमारवैलेंटाइन वीक

एटा। चुनावों के शोर में प्रेम की बातें अब गुम होती नजर आ रही हैं। मंगलवार से वेलेंटाइन वीक का आगाज हो गया, लेकिन गिफ्ट गैलरियां सूनी पड़ी हुई हैं। युवा नेताजी के साथ प्रचार में दौड़ रहे हैं, ऐसे में वेलेंटाइन को लेकर वक्त नहीं मिल पा रहा है। इसके चलते इस बार वेलेंटाइन को लेकर उत्साह फीका है और दुकानदार हाथ पर हाथ रखे बैठे हैं।

मंगलवार को रोज डे के साथ वेलेंटाइन वीक की शुरुआत हुई, लेकिन चुनावों ने प्रेम की खुमारी उतार दी है। युवा दिल धड़क तो रहे हैं, लेकिन जुबां पर प्रेम नहीं चुनाव की चर्चाएं हैं। उधर, वेलेंटाइन वीक को लेकर गिफ्ट गैलरियां सज चुकी हैं, लेकिन अब तक सन्नाटा पसरा हुआ है। गिफ्ट विक्रेता हाथ पर हाथ रखे बैठे हुए हैं।

युवा विवेक कुमार कहते हैं, "इस वक्त चुनाव सबसे अहम है। वेलेंटाइन-डे तो हर साल मानते हैं। तैयारी करेंगे, लेकिन 11 फरवरी के बाद से।" युवा अभिषेक का कहना है, "चुनाव की ड्यूटी में लगा हुआ हूं, ऐसे में क्या वेलेंटाइन-डे मनाऊं। पहले चुनाव निपट जाए, तो फिर वेलेंटाइन-डे के बारे में सोचें।" युवा विकास कहते हैं, "वेलेंटाइन वीक शुरू हो चुका है, लेकिन नेताजी के साथ प्रचार में जुटा हूं। इसलिए साथी को कम वक्त दे पा रहा हूं।"

सोशल मीडिया पर चल रहे मैसेज

वेलेंटाइन वीक आते ही सोशल मीडिया पर मैसेज का दौर शुरू हो गया। वेलेंटाइन मैसेज में भी चुनाव का पुट नजर आ रहा है। एक मैसेज चल रहा है कि चुनाव में इतना खो न जान की वेलेंटाइन किसी और की हो जाए।

Share it
Top