जेल जाने से बचे सुल्तान, 18 साल बाद हुए बरी

जेल जाने से बचे सुल्तान, 18 साल बाद हुए बरीअवैध शिकार मामले में राजस्थान हाईकोर्ट से सलमान खान बरी

जोधपुर। अवैध शिकार मामले में बॉलीवुड अभि‍नेता सलमान खान के लिए सोमवार का दिन बेहद अहम साबित हुआ। राजस्थान हाईकोर्ट ने अवैध शिकार मामले की सुनवाई के बाद सलमान खान को बरी कर दिया। सेशन कोर्ट से सलमान खान को पांच साल कैद की सजा मिली थी। कोर्ट की कार्यवाही शुरू होने से पहले सलमान खान की बहन अलवीरा अग्निीहोत्री उनके वकील के साथ जोधपुर हाईकोर्ट पहुंची थीं। अभि‍नेता ने सेशन कोर्ट के फैसले के खि‍लाफ ऊपरी अदालत में अपील की थी। हाईकोर्ट में मई महीने में ही सुनवाई खत्म हो चुकी है, जिसके बाद फैसला सुरक्षि‍त रख लिया गया था। शिकार के करीब 18 साल बाद इस मामले में फैसला आया है। 

सलमान से जुड़े अवैध शिकार मामले की 10 बड़ी बातें

पहली बड़ी बात

सलमान खान पर शिकार मामले में कुल चार केस दर्ज हुए हैं। मथानिया और भवाद में तीन चिंकारा के शिकार के दो अलग-अलग मामले, कांकाणी में हिरण शिकार मामला और लाइसेंस खत्म हो जाने के बाद भी रायफल रखने (आर्म्स एक्ट) का आरोप।

दूसरी बड़ी बात

तीन चिंकारा शि‍कार मामले में सलमान ख़ान को पहली बार 17 फरवरी 2006 को जोधपुर की निचली अदालत से एक साल की सजा हुई थी। जोधपुर के पास भवाद गांव में 26-27 सितंबर की रात 1998 में शिकार किया था।

तीसरी बड़ी बात

सलमान को काले हिरण के शि‍कार मामले में 10 अप्रैल 2006 को पांच साल की सजा हुई थी। शिकार का ये मामला जोधपुर के मथानिया के पास घोड़ा फार्म में 28-29 सितंबर 1998 की रात का है। लेकिन बाद में जोधपुर हाई कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई। घोड़ा फार्म हाउस शिकार मामले में सलमान को 10 से 15 अप्रैल 2006 तक 6 दिन केंद्रीय कारागृह में रहना पड़ा। सेशन कोर्ट द्वारा इस सजा की पुष्टि करने पर सलमान को 26 से 31 अगस्त 2007 तक जेल में रहना पड़ा था।

चौथी बड़ी बात

इन दोनों मामले में जोधपुर हाईकोर्ट में 12 मई को सुनवाई पूरी हो चुकी थी और फैसला सुरक्षित था।

पांचवी बड़ी बात

तीसरा केस कंकाणी गांव में 1-2 अक्टूबर 1998 की रात दो काले हिरणों के शिकार का है। ये केस आर्म केस में एडिशनल चार्ज फ्रेम होने की वजह से जुलाई 2012 तक पेंडिंग रहा और अब सेशन कोर्ट में चल रहा है।

छठी बड़ी बात

फिल्म 'हम साथ-साथ हैं' की शूटिंग के दौरान सितंबर-अक्टूबर 1998 के दौरान सलमान सहित अन्य अभि‍नेताओं पर आरोप है। इस मामले में सलमान खान के साथ सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम पर भी शिकार के लिए सलमान को उकसाने का आरोप है।

सातवीं बड़ी बात

सलमान खान चिंकारा का शिकार करने के मामले में और घोड़ा फार्म हाउस शिकार मामले में 12 अक्टूबर 1998 से 17 अक्टूबर तक पुलिस व न्यायिक हिरासत में रहे. उन्हें 10 से 15 अप्रैल 2006 तक छह दिन केंद्रीय कारागृह में रहना पड़ा।

आठवीं बड़ी बात

सितंबर 1998 में राजस्थान में फिल्म निर्माता सूरज बड़जात्या की फिल्म 'हम साथ साथ हैं' की शूटिंग चल रही थी। सलमान के अलावा सैफ अली खान, सोनाली बेंद्रे, तब्बू और नीलम भी इस फिल्म में काम कर रही थे। इन कलाकारों पर भी संरक्षित जानवर काले हिरण के शिकार का आरोप है।

नौवीं बड़ी बात

इस मामले में सबसे महत्वपूर्ण गवाह हरीश दुलानी हैं, जो शिकार के समय सलमान की जिप्सी चला रहे थे। हालांकि, वो अभी तक गायब हैं। कुछ लोग कहते हैं कि वो मुंबई में हैं जबकि कई लोग उनके विदेश में होने के बात कर रहे हैं।

दसवीं बड़ी बात

हरीश के घर वालों ने भी कभी किसी को नहीं बताया कि वे कहां हैं। हरीश ने इससे पहले सलमान खान के खिलाफ गवाही दी थी, जबकि बाद में वो पलट गए और अभि‍नेता के पक्ष में आ गए। वो भी 17 साल से गायब हैं।

सलमान ख़ान से जुड़े अवैध शिकार मामले की 10 बड़ी बातें

जेल जाने से कैसे बचे सलमान ख़ान, जानिए 5 वजहें

Tags:    India 
Share it
Top