राज्यसभा में फिर उठा पंजाब में मादक पदार्थों की समस्या का मुद्दा

राज्यसभा में फिर उठा पंजाब में मादक पदार्थों की समस्या का मुद्दाgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। राज्यसभा एक बार फिर आज पंजाब में मादक पदार्थों की समस्या का मुद्दा उठा। वहीं, सरकार ने कहा कि वह इस समस्या से निपटने के लिए गंभीरता से कदम उठा रही है।

उच्च सदन में प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस की अंबिका सोनी ने कहा कि वह पंजाब से हैं और पंजाब में स्थिति ठीक नहीं है। वहां 60 प्रतिशत लोग नशीली चीजों का इस्तेमाल करते हैं। सरकार इस बारे में गंभीर नहीं है। 

इस पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री विजय सांपला ने कहा, ‘‘अगर आप पंजाब से हैं तो मैं भी पंजाब से हूं।'' उन्होंने कहा कि यह कहना बिल्कुल गलत है कि पंजाब में 60 प्रतिशत लोग नशीली चीजों का इस्तेमाल करते हैं, जबकि राज्य में यह आंकड़ा कुल आबादी का एक प्रतिशत से भी कम है।

मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इस समस्या को लेकर बहुत गंभीर है और अब राष्ट्रीय सर्वेक्षण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब 2001 में यह सर्वेक्षण वाजपेयी सरकार ने कराया था और अब भी हमारी ही सरकार यह सर्वेक्षण करा रही है। इस अवधि के बीच में आपकी सरकार रही। उसने कोई सर्वेक्षण नहीं कराया, इससे आपके इरादे समझ में आते हैं।

कांग्रेस सदस्य आनंद शर्मा और प्रताप सिंह बाजवा भी मामला उठाने लगे। इस पर उपसभापति पीजे कुरियन ने आनंद शर्मा से कहा कि यदि आप चर्चा कराना चाहते हैं तो नोटिस दीजिए। बीजद ने अनुभव मोहंती ने मादक पदार्थों के बढ़ते चलन और इससे संबंधित धरपकड़ को लेकर सवाल पूछा। इस पर मंत्री ने कहा कि धरपकड़ से संबंधित मामला गृह मंत्रालय देखता है।

Tags:    India 
Share it
Top