2019 के चुनावों ने दीवारों को तोड़, दिलों को जोड़ने का काम किया है- प्रधानमंत्री मोदी

2019 के चुनावों ने दीवारों को तोड़, दिलों को जोड़ने का काम किया है- प्रधानमंत्री मोदी

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (NDA) के सभी दलों ने सर्वसम्मति से भारत के प्रधानमंत्री पद के लिए नरेन्द्र मोदी को चुना। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री पद के लिए नरेन्द्र मोदी के नाम की घोषणा की-

प्रधानमंत्री मोदी ने सबको धन्यवाद देते हुए कहा, "मैं आप सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं कि आपने सर्वसम्मति से मुझे संसदीय दल का नेता चुना। एनडीए के सभी सांसदों और दलों ने भी मुझे चुना। मैं हृदय से आप सभी का बहुत-बहुत आभारी हूं।"

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सेंट्रल हॉल की आज ये घटना असामान्य घटना है. हम आज नए भारत के हमारे संकल्प को एक नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ाने के लिए एक नई यात्रा को यहां से आगे बढ़ाने वाले हैं। एनडीए के पास दो महत्वपूर्ण चीजें हैं, जो हमारी अमानत है। एक है एनर्जी और दूसरा है सिनर्जी। ये एनर्जी और सिनर्जी एक ऐसा केमिकल है, जिसको लेकर हम सशक्त और सामर्थ्यवान हुए हैं। जिसको लेकर हमें आगे चलना है

प्रधानमंत्री ने कहा, आम तौर पर कहा जाता है कि चुनाव बांट देता है, दूरियां पैदा करता है, दीवार बना देता है। लेकिन 2019 के चुनाव ने दीवारों को तोड़ने का काम किया है। इस चुनाव ने दिलों को जोड़ने काम किया है। ये चुनाव सामाजिक एकता का आंदोलन बन गया है।"

मोदी ने आगे कहा, "देश की राजनीति ने जो बदलाव आया है, आप सभी ने इसका नेतृत्व किया है। आप सभी अभिनंदन के आभारी हैं। लेकिन जो सदस्य पहली बार चुनकर आए हैं वे विशेष अभिनंदन के आभारी हैं। भारत में तो चुनाव अपने आप में उत्सव था, मतदान भी अनेक रंगों से भरा था। लेकिन विजयोत्सव उससे भी अधिक शानदार था। देश के साथ विश्वभर के भारत प्रेमियों ने इस विजयोत्सव में हिस्सा लिया है। ये हमारे लिए गर्व की बात है।"

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सर्वसम्मति से भाजपा संसदीय दल का नेता चुना गया। भाजपा की संसदीय दल की बैठक में सभी सांसदों ने अपने नेता के रूप में मोदी को चुने जाने का समर्थन किया। अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम दल के नेता के रूप में घोषित किया।

बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के संसदीय दल के नेता के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी के नाम का प्रस्ताव किया। पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देते हुए संसदीय दल का नेता चुने जाने का समर्थन किया। जिसके बाद सभी सांसदों ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम का समर्थन किया।

संसदीय दल का नेता चुने जाने के बाद मुरली मनोहर जोशी ने प्रधानमंत्री को बधाई दी।

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ये प्रचंड जनादेश जो हमें मिला है वो ऐतिहासिक जनादेश है। भाजपा के 303 सांसद चुनकर आना और एनडीए के 353 सांसद चुनकर आना जनता का अपार समर्थन है। चुनाव अभियान के समय कई सवाल उठाए जाते थे, लेकिन हमारे सभी साथियों को विश्वास था कि हम 50 प्रतिशत की लड़ाई लड़ेंगे और एनडीए को मोदी जी के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत प्राप्त होगा।

अमित शाह ने आगे कहा, जिस प्रकार से मोदी जी ने पांच साल शासन चलाया उसको देश की जनता ने स्वीकारा है। वो बताता है कि देश की जनता ने नरेन्द्र मोदी एक्सपेरिमेंट को मन से फिर एक बार स्वीकारा है। कश्मीर से कन्याकुमारी और कामाख्या से कच्छ तक जनता ने मोदी जी के समर्थन में मतदान किया है। चुनाव प्रक्रिया के समय देश में हर जगह मोदी जी की सुनामी दिखाई देती थी, इस सुनामी ने विपक्षी पार्टियों को ध्वस्त कर दिया है

पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि 60 के दशक के बाद इस देश के लोकतंत्र को परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण इन तीन नासूरों ने डसा हुआ था। हर जनादेश कहीं न कहीं परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण की राजनीति से ग्रसित था। 2019 के जनादेश ने परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण को राजनीति से बाहर निकाल दिया है।

गुरूवार, 23 मई को आए चुनाव परिणामों में भाजपा ने सर्वाधिक लोकसभा सीटें जीतीं और पूर्ण बहुमत प्राप्त किया। भाजपा को 543 में से 303 सीटें मिलीं। जहां एक तरफ स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के गढ़ अमेठी में राहुल गांधी को हराया तो वहीं केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा को मात दी। मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस को केवल 52 सीटों पर जीत मिली।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top