राष्ट्रीय खेल दिवस पर राष्ट्रपति ने सरदार सिंह और देवेंद्र झझारिया को राजीव गांधी खेल रत्न से नवाजा 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   29 Aug 2017 9:13 PM GMT

राष्ट्रीय खेल दिवस पर राष्ट्रपति ने सरदार सिंह और देवेंद्र झझारिया को राजीव गांधी खेल रत्न से नवाजा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हाकी खिलाड़ी सरदार सिंह को राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न से नवाजा।

नई दिल्ली ( भाषा )। पैरालम्पियन देवेंद्र झझारिया और अनुभवी हाकी खिलाड़ी सरदार सिंह को आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न से नवाजा जबकि स्टार महिला क्रिकेटर हरमनप्रीत कौर समेत 16 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार प्रदान किया गया।

17 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार

इस बार अर्जुन पुरस्कार के लिए 17 खिलाड़ियों का चयन किया गया है लेकिन क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा काउंटी क्रिकेट में व्यस्त होने के कारण पुरस्कार ग्रहण करने के लिए नहीं पहुंच पाए। उन्हें यह पुरस्कार बाद में प्रदान किया जाएगा।

भारतीय एथलीट देवेंद्र झझारिया को देश के सर्वोच्च खेल सम्मान-राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया। झझारिया ने पिछले साल रियो पैरालम्पिक में शानदार प्रदर्शन कर भाला फेंक स्पर्धा में 12 साल बाद स्वर्ण पदक जीता था। इसे पहले, झझारिया ने इसी स्पर्धा में अपना पहला स्वर्ण पदक 2004 में एथेंस में आयोजित पैरालम्पिक खेलों में जीता था।

भालाफेंक खिलाड़ी देवेंद्र झझारिया दो परालम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय हैं और खेलरत्न पाने वाले पहले पैरा एथलीट भी हैं। जस्टिस सी के ठक्कर (रिटायर्ड) की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने उनके और सरदार सिंह के नाम की अनुशंसा की थी, जिस पर खेल मंत्रालय ने मुहर लगाई। दोनों को आज महान हाकी खिलाडी मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन यानी राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक विशेष समारोह में पुरस्कार प्रदान किए गए। उन्हें प्रशस्ति पत्र के साथ 7 . 5 लाख रुपए नकद पुरस्कार दिया गया। समारोह में सबसे ज्यादा तालियां पैरा एथलीटों के लिए बजी, जिनकी झोली में पहली बार खेलरत्न समेत तीन पुरस्कार गए। इस साल खेल पुरस्कार विवादों से अछूते नहीं रहे।

छह कोचों को द्रोणाचार्य पुरस्कार

द्रोणाचार्य पुरस्कार की सूची से खेल मंत्रालय ने पैरा खेलों के कोच सत्यनारायण और कबड्डी कोच हीरानंद कटारिया का नाम हटाया जबकि पुलेला गोपीचंद की अध्यक्षता वाली समिति ने इनके नामों की अनुशंसा की थी। सत्यनारायण के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज है और कटारिया के खिलाफ मंत्रालय को कई शिकायतें मिली थी। पुरस्कारों में अनदेखी होने से भारोत्तोलक संजीता चानू और बास्केटबाल खिलाड़ी ए अनिता ने दिल्ली उच्च न्यायालय की शरण ली और सरकार ने उनके मामले पर पुनर्विचार करने का वादा किया है। इन दोनों के नाम हटाकर छह कोचों को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिए गए जबकि तीन पूर्व खिलाड़ियों को खेलों में आजीवन योगदान के लिए ध्यानचंद पुरस्कार मिला। अर्जुन, द्रोणाचार्य और ध्यानचंद पुरस्कार पाने वालों को प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह और पांच पांच लाख रुपए नकद दिए गए।

खेलरत्न देवेंद्र झझारिया ने 2004 एथेंस ओलंपिक में और पिछले साल रियो ओलंपिक में एफ 46 वर्ग में स्वर्ण पदक जीते. उन्होंने दोनों मौकों पर विश्व रिकार्ड भी बनाया और 2013 विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।

दूसरी ओर देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजे जा चुके पूर्व कप्तान सरदार सिंह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करते आए हैं। सुल्तान अजलन शाह कप 2008 में भारतीय टीम की कमान संभालने वाले सरदार सबसे युवा कप्तान बने थे, दो साल पहले पद्मश्री से नवाजे गए सरदार 2014 इंचियोन और 2010 ग्वांग्झू एशियाई खेलों में क्रमश: स्वर्ण और कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। वह दो बार राष्ट्रमंडल खेल में रजत पदक जीत चुके हैं और 2010 तथा 2011 में एफआईएच की आल स्टार टीम का हिस्सा थे।

सरदार के नाम पर समिति में बहस भी हुई थी क्योंकि भारतीय मूल की एक ब्रिटिश हाकी खिलाड़ी ने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। खेल के मैदान पर हालांकि उनकी उपलब्धियों को समिति नकार नहीं सकी।

अर्जुन पुरस्कार के लिए चुने गए खिलाड़ियों में क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा, महिला क्रिकेट टीम की विश्व कप स्टार हरमनप्रीत कौर, पैरालम्पियन पदक विजेता एम थंगावेलू और वरुण भाटी, गोल्फर एसएसपी चौरसिया और हाकी स्टार एस वी सुनील शामिल हैं।

मैं यह प्रतिष्ठित पुरस्कार पाकर काफी गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं लेकिन इंग्लैंड में नाटिंघमशर काउंटी के साथ खेलने के कारण मैं पुरस्कार लेने नहीं आ सकूंगा।
चेतेश्वर पुजारा क्रिकेटर

पुजारा ने पिछले साल एक सत्र में भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट मे सबसे ज्यादा रन बनाए। उन्होंने 1350 से ज्यादा रन बनाए।

मरियप्पन ने पुरुषों की ऊंची कूद (एफ 46) में स्वर्ण पदक जीता जबकि भाटी ने इसी वर्ग में रजत पदक हासिल किया।

गोल्फर एसएसपी चौरसिया ने 2016 और 2017 में इंडियन ओपन खिताब जीते।

पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल और रोहन दत्तात्रेय मोरे को क्रमश: भूमि और जल साहस के लिए तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहस पुरस्कार प्रदान किए गए।

अशोक अब्बे और वेदप्रकाश शर्मा को इसी श्रेणी में जीवनपर्यंत उपलब्धि पुरस्कार से नवाजा गया।

वहीं पंजाबी विश्वविद्यालय , पटियाला को मौलाना अबुल कलाम आजाद ट्राफी के लिए चुना गया और चल वैजयंती के साथ 10 लाख रुपए नकद पुरस्कार दिया गया। केंद्रीय विद्यालय संगठन, ओडिशा औद्योगिक अवरंचना विकास निगम , द गोल्फ फाउंडेशन और द रिलायंस फाउंडेशन को राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार दिए गए। रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता मुकेश अंबानी समारोह में आकर्षण का केंद्र रही।

खेल रत्न :-

देवेंद्र झझारिया ( पैरा एथलीट ) , सरदार सिंह ( हाकी )

अर्जुन पुरस्कार :-

वीजे सुरेखा ( तीरंदाजी ), खुशबीर कौर ( एथलेटिक्स ), आरोकिया राजीव ( एथलेटिक्स ), प्रशांती सिंह ( बास्केटबाल), एल देवेंद्रो सिंह ( मुक्केबाजी ), चेतेश्वर पुजारा ( क्रिकेट ), हरमनप्रीत कौर ( क्रिकेट ), ओइनाम बेमबेम ( फुटबाल ), एसएसपी चौरसिया ( गोल्फ ), एस वी सुनील ( हाकी ), जसवीर सिंह ( कबड्डी ), पी एन प्रकाश ( निशानेबाजी), ए अमलराज ( टेबल टेनिस ), साकेत माइनेनी ( टेनिस ), सत्यव्रत कादियान ( कुश्ती ), एम थंगावेलू ( पैरा एथलीट) और वरुण भाटी ( पैरा एथलीट )।

द्रोणाचार्य पुरस्कार :-

दिवंगत डाक्टर आर गांधी ( एथलेटिक्स), जीएसएसवी प्रसाद ( बैडमिंटन) , बृजभूषण मोहंती ( मुक्केबाजी ), पीए रफेल ( हाकी ), संजय चक्रवर्ती ( निशानेबाजी ) , रोशन लाल ( कुश्ती )

ध्यानचंद पुरस्कार :-

भूपेंदर सिंह ( एथलेटिक्स ), सैयद शाहिद हकीम ( फुटबाल ), सुमराइ टेटे ( हाकी )।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top