न पहुंची गाँव तक सड़क न तारों में आया करंट

न पहुंची गाँव तक सड़क न तारों में आया करंटगाँव में सुविधाओं का है बहुत अधिक अभाव।

विरेंद्र शुक्ला (कम्यूनिटी रिपोर्टर)

फतेहपुर (बाराबंकी)। ग्राम पंचायत बल्लोपुर विकास खंड सूरतगंज तहसील फतेहपुर बाराबंकी निवासी राम शंकर वर्मा जो काफी खुसमिजाज प्रवृत्ति के हैं, उनके गाँव में सैकड़ों समस्याएं हैं। वो अपने गाँव बल्लोपुर के प्रोग्रेसिव किसानों में से एक हैं वो चाहते हैं कि उनके गाँव में वो सुविधायें हों जो एक लोहिया ग्राम में होती हैं। वो बताते हैं, "हमारा गाँव एक बार अम्बेडकर ग्राम में चयनित हुआ था। पर उनके बाद भी विकास कार्य सिर्फ बगल वाले गाँव गोवा मंझरि में ही करवाया गया।"

अमीरों ने ले लिया कनेक्शन, गरीब अंधेरे में

रामशंकर वर्मा आगे बताते हैं, "हमारे गाँव में कई वर्ष पहले बिजली के खंभे और तार बिछ गए उसके बाद काफी समय बाद तारों में बिजली भी आई। हमारे गाँव में ट्रांसफार्मर भी लगा, लाइन भी चालू हुई लेकिन आज तक गाँव में किसी भी घर में बल्ब नहीं जला क्योंकि ट्रांसफार्मर से जाने वाली लाइन से किसी भी ग्रामीण को एलटी (कनेक्शन) नहीं दिया गया। क्या फायदा गाँव में बिजली आने का जब इसका उपयोग ही नहीं हो पा रहा है। कई बार हम ग्रामीणों ने अधिकारियों को लिखित में शिकायत भी की है पर कोई भी सुनवाई नहीं हुई है। गाँव के ही कुछ धनाड्य लोगों ने अपने पैसे से तार खिंचवाकर अपने घर में बिजली कनेक्शन कर लिया है।"

लड़कियां नहीं जा पाती हैं स्कूल

रामशंकर वर्मा बताते हैं, "बल्लोपुर बाबुरिया में न तो एक भी शौचालय है और न ही गाँव में पक्की रोड है। गाँव में रोड न होने के चलते आवागमन की सुविधा बहुत खराब है। हमारे गाँव में आज तक बिजली के दर्शन तक नहीं हुए।" मुन्नू लाल पुत्र नन्हेलाल बताते हैं, "हमारे गाँव में कोई सरकारी स्कूल भी नहीं है। जिससे हमारे बच्चे शिक्षित नहीं हो पा रहे हैं। बच्चों को पढ़ाई करने के लिए आठ किलोमीटर दूर सूरतगंज (विकास खंड) को जाते हैं। हमारी बड़ी-बड़ी लड़कियां स्कूल दूर होने के कारण स्कूल नहीं जा पाती हैं। इससे आगे चलकर उनकी शादी में भी बाधाएं उत्पन्न हो जाती हैं।"

खुले में शौच करने को मजबूर महिलाएं

बल्लोपुर निवासी संतराम बताते हैं, "अगर कालीदीन पुरवा से बाबुरिया होते हुए संपर्क मार्ग हेतमापुर मार्ग तक अगर खड़ंजा लग जाये तो आवागमन आसान हो जायेगा।" रामशंकर अपने गाँव बाबुरिया के एकलौते जागरूक किसान और समाजसेवी पुरुष हैं। वे अपने गाँव व ग्रामसभा के विकास के लिए दिनरात तत्पर रहते हैं। उन्होंने बताया, "हमारी ग्राम सभा बल्लोपुर के सभी मजरों में एक भी शौचालय नहीं बना है। सभी महिलाएं व लड़कियां शौच के लिए बाहर ही जाती हैं। महिलाओं को जल्दी सुबह शौच के लिए बाहर जाना पड़ता है। गाँव में गन्दगी व अधिक झाड़ियों के चलते कई महिलाओं को सर्प ने काट भी लिया जिससे कुछ महिलाओं की मौत भी हो चुकी है।" ग्राम सभा सालपुर की प्रधान सुनीता सिंह बताती हैं "हम गाँव वालों के सहयोग से कई बार गाँव की सभी समस्याओं की शिकायत कर चुके हैं, पर कोई भी सुनवाई अभी तक नहीं हुई है।"

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org)


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top