#स्वयंफ़ेस्टिवल: मदरसे के बच्चों को बताया स्वस्थ रहने के गुर 

#स्वयंफ़ेस्टिवल: मदरसे के बच्चों को बताया स्वस्थ रहने के गुर अपने स्वास्थ्य और साफ सफाई के बारे में जानकारी लेते बच्चे।

स्वयं डेस्क

कम्युनिटी जर्नलिस्ट : अजय मिश्रा (32 वर्ष)

कन्नौज। गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर चल रहे स्वयं फेस्टिवल में अवकाश के बाद भी मदरसे खुले। दो मदरसों के बच्चों को स्वस्थ्य रहने, साफ रहने और कसरत करने के टिप्स दिए गए। मकसद था कि वह सेहतमंद रहें।

देश के पहले ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर 2-8 दिसंबर तक उत्तर प्रदेश के 25 ज़िलों में स्वयं फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। आपका शहर कन्नौज भी इन 25 जिलों में शामिल है।

मंगलवार को सर्दी और कोहरा मदरसे के बच्चों का हौसला कम नहीं कर पाया। छात्र-छात्राएं सुबह से ही अपने-अपने मदरसे पहुंच गईं। मदरसा अरबिया काशिफ उल उलूम मोहल्ला अहमदी टोला में मदरसा जामिया अरबिया कासिम उल उलूम मोहल्ला बालापीर के छात्र-छात्राएं समय से अपने मदरसे में हाजिर हो गईं थी। दोपहर बाद पहुंची वरिष्ठ डाक्टरों की टीम ने छोटे बच्चों सहित सभी छात्र-छात्राओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया और उन्हें स्वस्थ रहने से सम्बंधित कई जानकारियां दी।

चिकित्सा अधीक्षक डा गीतम सिंह ने बताया कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बच्चे खूब और नियमित कसरत करें। योग करें, खेलें, जिससे उनके अंदर चुस्ती-फुर्ती बनी रहे। उन्होंने कहा कि साफ-सफाई बेहद जरूरी है। अगर साफ सफाई रखेंगे तो आपसे बीमारियां दूर रहेंगी और आप स्वस्थ रहेंगे।

उन्होंने गाँव कनेक्शन को धन्यवाद दिया। जिन्होंने इस लायक समझा कि वह बच्चों को जानकारी दे सकें।

नेत्र सर्जन और वरिष्ठ डा जेजे राम ने कहा कि कुछ दिनों पहले तक डेंगू, चिकुनगुनिया समेत कई बीमारियों की चपेट में लोग आए। अखबारों में यह खबरें सुर्खियां बनीं। हालांकि अब यह बीमारियां नहीं हैं। बीमारियां न फैलें इसलिए लोग सफाई रखें। हाथ धोकर भोजन करें। पानी कहीं भी एकत्र न होने दें, जिससे मच्छर पनप सकें। उन्होंने कहा कि शौच के समय शौचालय का प्रयोग करें और हाथ अच्छी तरह से साफ करें।

मदरसों में नहीं पहुंचती आरबीएसके की टीम

वरिष्ठ डाक्टरों ने जब पूछा कि मदरसे में क्या आरबीएसके यानि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम आती है तो मदरसा संचालक और बच्चों ने एक सुर में कहा, नहीं आती है। संचालक ने कहा वह अपने स्तर से बच्चों का चेकअप कराते हैं। इस पर डा. जेजे राम ने आठ दिसम्बर को टीम के पहुंचने का आश्वासन दिया। मोबाइल पर टीम को पहुंचने का निर्देश भी दिया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top