#स्वयंफेस्टिवल: सोनभद्र में गाँववासियों में जागी अपने गाँव को खुले में शौच मुक्त करने की होड़ 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   3 Dec 2016 7:14 PM GMT

#स्वयंफेस्टिवल: सोनभद्र में गाँववासियों में जागी अपने गाँव को खुले में शौच मुक्त करने की होड़ सोनभद्र में तीन दिसम्बर को ‘खुले में शौच मुक्त गाँव गौरव यात्रा’ का आयोजन ब्लाक घोरावल के जगमई गाँव में हो रहा है।

सोनभद्र। सोनभद्र में अब हर गाँव में एक होड़ है कि उसका गाँव खुले में शौच मुक्त गाँव घोषित हो। स्वयं फेस्टिवल ने उनकी इच्छा को पूरा करने के लिए मंच उपलब्ध कराया। सोनभद्र में तीन दिसम्बर को ‘खुले में शौच मुक्त गाँव गौरव यात्रा’ का आयोजन ब्लाक घोरावल के जगमई गाँव में किया जा रहा है। गाँव स्वच्छ है या नहीं इसके गवाह व जज बनें हैं सोनभद्र के जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह। उनका साथ दे रहे हैं पुलिस अधीक्षक व डीपीआरओ।

जगमई गाँव में भ्रमण करते डीएम व एसपी।

देश के पहले ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर 2-8 दिसंबर तक उत्तर प्रदेश के 25 ज़िलों में स्वयं फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। आपका शहर सोनभद्र भी इन 25 जिलों में शामिल है।

इस गौरव यात्रा के बाद जिलाधिकारी सोनभद्र ने चौपाल लगाई, जिसमें आस-पास के ग्रामीणों ने अपनी परेशानियां जिले के मुखिया से बताई। इस चौपाल में पुलिस अधीक्षक भी शामिल थे। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन दिया किया उनकी सभी समस्याओं का निदान होगा।

पुलिस अधीक्षक सोनभद्र ने लखनऊ में चल रही उन सभी योजनाएं जो महिलाओं, लड़कियों और स्कूली छात्राओं के लिए बनाई गई, जिसमें 1090, डायल 100, ईएफआईआर, महिला सम्मान प्रकोष्ट व टिवटर सेवा के उपयोग के बारे में विस्तार से बताया। चौपाल में बैठी महिलाओं, लड़कियों और स्कूली छात्राओं ने इसे अच्छा बताया। कुछ ने कहा अगर हम इसे सुचारू रूप से अपना सकें तो हमारे जीवन से डर निकाल जाएगा और जो गलत काम करने वाले हैं उनमें भी इसका डर बैठेगा।

ब्लाक घोरावल के जमगई गाँव चल रहे स्वयं फेस्टिवल के कार्यक्रम में गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण का भी आयोजन किया गया। इलाके की गर्भवती महिलाएं तो इस कार्यक्रम आई ही थी इसके अतिरिक्त कई महिलाओं ने अपना जांच भी कराई। गर्भवती महिलाओं की बीपी जांच की गई और उनको दवा का वितरण किया गया। करीब 70 गर्भवती महिलाओं ने अपनी जांच कराई।

सेनेटरी कार्यक्रम में किशोरियों के स्वास्थ्य की जांच की गई। कांऊसलर सीमा सिंह ने सेनेटरी नेपकिन की उपयोगिता और कपड़े की कमी के बारे में बताया। करीब 400 किशोरियों को सेनेटरी नेपकिन बंटा गया। डा राकेश सिंह और डा. प्रेमनाथ ने इस कार्यक्रम में सहयोग दिया।

इस आयोजन में जिले के जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, डीपीआरओ व सीडीओ शामिल होंगे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top