#स्वयंफेस्टिवल: रूहीना आचार बनाकर बनीं आत्मनिर्भर, ग्रामीण महिलाओं को बताई सफलता की कहानी

#स्वयंफेस्टिवल: रूहीना आचार बनाकर बनीं आत्मनिर्भर, ग्रामीण महिलाओं को बताई सफलता की कहानीबांदा के खाईपार गाँव में महिलाओं को जानकारी देते संस्था के पदाधिकारी।

शहनवाज़ (कम्युनिटी जर्नलिस्ट) 27 वर्ष

बांदा। जिले में अपनी मेहनत और लगन से अपनी किस्मत पलटने वाली रूहीना ने ग्रामीण महिलाओं को अपनी सफलता की कहानी बताई कि कैसे आचार और मुरब्बा बनाकर वह आत्मनिर्भर बनीं। जब ग्रामीण महिलाओं ने रूहीना को सुना तो सभी महिलाओं ने तालियां बजाकर हौसलाअफजाई की। रूहीना ने आगे कहा कि हरेक ग्रामीण महिला भी बस एक कदम बढ़ाकर आत्मनिर्भर बन सकती है। रूहीना गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर मनाए जा रहे स्वयं फेस्टिवल के कार्यक्रम महिला सशक्तिकरण एवं मानवाधिकार में महिलाओं को जानकारी दे रही थीं। यह कार्यक्रम बांदा के खाइंपार गांव में आयोजित किया गया। बता दें कि स्वयं फेस्टिवल के तहत 25 जिलों में 1000 कार्यक्रम 2 से 8 दिसंबर तक आयोजित किये जा रहे हैं।

आज ‘चटपटा आचार’ की मालिक है रूहीना

इस अवसर पर रूहीना ने बताया कि मैंने सबसे पहले सोच संस्था के माध्यम से आचार और मुरब्बा बनाने का प्रशिक्षण लिया और धीरे-धीरे मेहनत करके तमाम लड़कियों को भी सिखाया। आज रूहीना “चटपटा आचार” कंपनी की मालिक हैं। इस मौके पर सोशल ऑर्गनाइजेशन फार कम्यूनिटी हेल्प (SOCH) एनजीओ के अध्यक्ष नसीर सिद्दीकी भी मौजूद रहे। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित किया।

महिलाओं का देंगे साथ

वहीं, इस अवसर पर जाहदा ने मानव अधिकार के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के बारे में ग्रामीण महिलाओं को जानकारी दी। वहीं, मेहताब ने महिलाओं और बच्चों के आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड आदि दस्तावेज बनाने में नि:शुल्क सहयोग की बात कही।

यूपी पुलिस की नई सेवाओं के बारे में दी जानकारी

इस अवसर पर यूपी पुलिस के संतोष कुमार, भगवती सिंह और रंजना यादव ने ग्रामीण महिलाओं को महिला सम्मान प्रकोष्ठ, यूपी 100, वीमेन पावर लाइन 1090, टिवटर सेवा, साइबर क्राइम आदि सेवाओं को विस्तार से जानकारी दी।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top