You Searched For "Samachar"

  • बायोसिक्योरिटी करके बढ़ाएं पोल्ट्री व्यवसाय में मुनाफा, देखें वीडियो

    लखनऊ। पोल्ट्री फार्मों में रोगों को फैलने से रोकने के लिए प्रबंधन, टीकाकरण के साथ साथ बायोसिक्योरिटी को अपनाना आवश्यक और सस्ता उपाय है। कई संगठित पोल्ट्री इनका ख्याल रखती हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में अभी भी असंगठित पोल्ट्री किसान इसको नज़रअंदाज कर देते हैं, जिससे पोल्ट्री किसानों को नुकसान उठाना...

  • Motivational Story 'खुद तो लात-घूंसे खाए, अब दूसरों को इससे बचाने की ठानी'

    गोरखपुर। जानकी देवी जब 13 साल में शादी होकर आई तो उन्हें इसका मतलब यही समझ आया कि पति की मार खाना और सास के ताने सुनना। लेकिन आज दूसरों के घरों में होने वाली हिंसा को रोकना उनकी ज़िंदगी का मकसद बन गया है।अपने पल्लू से आंखों के आंसू पोछते हुए जानकी देवी (65 वर्ष) ने कहा, 'जब 45 साल की उम्र में पहली...

  • विश्व मानवाधिकार दिवस: बारीकी से जानें अपने अधिकार 

    एक देश में महेश नाम के एक फिल्म स्टार को कोर्ट चार लोगों को शराब पीकर कुचलने के बावजूद मामूली जुर्माना लगा कर छोड़ देती है। इस फिल्म स्टार की शख्सियत और पहुंच बहुत ऊंची होती है इसलिए कानून उसकी पूरी मदद करता है। चार मासूम लोगों की जिंदगी को तबाह करने के बाद भी वह समाज में आजाद घूमता है।वहीं दूसरी...

  • विश्व मानवाधिकार दिवस- जानें कैसे लड़ें अपने हक़ की लड़ाई ? 

    मानवाधिकार दिवस हर साल 10 दिसंबर को दुनिया भर में मनाया जाता है। वर्ष 1948 में पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 10 दिसंबर को हर साल इसे मनाये जाने की घोषणा की गयी थी। इसे सार्वभौमिक मानव अधिकार घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा के सम्मान में प्रतिवर्ष इसे विशेष तिथि पर मनाया जाता है।...

  • क्या आप जानते हैं, स्टेशन से पहले आउटर पर क्यों रोकी जाती हैं ट्रेनें ?

    #BaatPateKi ट्रेन जब स्टेशन पहुंचने से पहले आउटर पर रोक दी जाती है, और कई बार काफी देर तक खड़ी रहती है तो आपको गुस्सा आता होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं ऐसा क्यों होता है ?अक्सर ऐसा होता है कि ट्रेन जैसे ही स्टेशन पर पहुंचने वाली होती है वैसे ही ट्रेन को आउटर पर रोक दिया जाता है। कभी-कभी तो ट्रेन एक...

  • पढ़िए गीता राय से गीता दत्त बनने की कहानी

    लखनऊ। हिंदी फिल्म संगीत में सबसे मखमली आवाज की मल्लिका गीता दत्त। गीता दत्त का जन्म 23 नवंबर 1930 को बांग्लादेश के फरीदपुर में हुआ था। उस वक्त गीता दत्त का नाम गीता रॉय चौधरी हुआ करता था। इनके पिता एक जम़ींदार हुआ करते थे। गीता रॉय का परिवार कलकत्ता से मुंबई साल 1942 में आ गया था।एक बार गीता रॉय...

  • शहद एक शानदार दवा है, जानिए इसके 10 बड़े फायदे

    लखनऊ। शहद या मधु हमेशा से रसोई में इस्तेमाल होने वाला एक स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ रहा है, साथ ही सदियों से एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में भी उसका इस्तेमाल होता है। दुनिया भर में हमारे पूर्वज शहद के कई लाभों से अच्छी तरह परिचित थे। भारत में शहद सिद्ध और आयुर्वेद चिकित्सा का एक महत्वपूर्ण अंग है जो...

  • खुशियों का पैमाना बनती जा रही शराब

    मध्य प्रदेश (ग्वालियर)। वैसे तो हमारे देश में अनेक समस्याएँ हैं -जैसे गरीबी बेरोजगारी भ्रष्टाचार आदि लेकिन एक समस्या जो हमारे समाज को दीमक की तरह खाए जा रही है,वो है शराब। आज इसने हमारे समाज में जाति, उम्र, लिंग, स्टेटस, अमीर, गरीब,हर प्रकार के बन्धनों को तोड़ कर अपना एक ख़ास मुकाम बना लिया है।समाज...

  • इस फल के सेवन से होंगे अनेक फायदे

    लखनऊ। अमरूद की साल में दो फसलें, पहली बरसात में और दूसरी सर्दियों के मौसम में तैयार की जाती हैं। ज़्यादातर किसान शीतकालीन फसल पर निर्भर हैं। इसका कारण यह है कि बरसात में होने वाली फसल की गुणवत्ता कम पाई जाती है। इसके साथ ही फसल में कीटों का भी प्रकोप होता है इसलिए व्यवसाय को देखते हुए किसान...

  • कानपुर: कूड़े से बनाई गई जैविक खाद किसानों को मिलेगी सस्ते दाम में 

    लखनऊ,(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कानपुर के कैंटोन्मेंट बोर्ड ने कूड़े से जैविक खाद बनाकर किसानों को सस्ते दाम पर बेचने की कवायद शुरू कर दी है। बोर्ड के निर्देश पर यहां हाइटेक कूड़ा प्लांट लगा दिया गया है। अधिकारियों का दावा है कि इससे रोजाना 40 टन कूड़े का निस्तारण कर 15 टन जैविक खाद बनाई...

  • गन्ने की नई किस्म लगाएं, सूखे और बाढ़ में भी नहीं बर्बाद होगी फसल

    लखनऊ। इस समय प्रदेश के ज्यादातर जिलों में किसान गन्ना की बुवाई कर रहे हैं, ऐसे में किसान भारतीय गन्ना शोध संस्थान से विकसित उन्नत प्रजातियों का चयन कर सूखे और बाढ़ ग्रसित क्षेत्रों में भी गन्ने की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।ये भी पढ़ें : आप भी एक एकड़ में 1000 कुंतल उगाना चाहते हैं गन्ना तो...

  • बार-बार शौच जाने का कारण हो सकता है -इरिटेबल बॉएल सिंड्रोम

    लखनऊ। आईबीएस एक ऐसा विकार है जिसमे बड़ी आंत प्रभावित होती है। इस रोग में मरीजों की आंत की बनावट में कोई बदलाव नही होता है, इसलिए कई बार इसे सिर्फ रोगी का वहम ही मान लिया जाता है। लेकिन आँतों की बनावट में कोई बदलाव ना आने के बावजूद भी रोगी को कब्ज या बार-बार दस्त लगना, पेट में दर्द, गैस जैसी समस्याएं...

Share it
Top