“राम मंदिर बनेगा तो यहीं बनेगा, मलेशिया या इंडोनेशिया में नहीं”

“राम मंदिर बनेगा तो यहीं बनेगा, मलेशिया या इंडोनेशिया में नहीं”बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में मीडिया को संबोधित करती हुईं केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण।

लखनऊ। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को कहा कि अगर राम मंदिर यहां नहीं बनेगा तो कहां बनेगा। मलेशिया या इंडोनेशिया में तो नहीं बनेगा। ये हमारी आस्था का प्रश्न है। हम विकास की राह पर चलते हैं और अपनी आस्था का भी ख्याल रखते हैं।

सीतारमण मंगलवार को यहां बीजेपी के प्रदेश मुख्यालय में मीडिया से रुबरु थीं। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य के सभी डीएम को सराकर आदेश था कि वो बीजेपी के एमपी का काम न होने दें। इसी वजह से केंद्र सरकार चाह कर भी राज्य में विकास के काम नहीं करवा सकी। सीतारमण ने सपा पर आरोप लगाया कि अगर पांच साल में किया गया अखिलेश का काम बोलता है तब वो गठबंधन क्यों कर रही हैं। वे खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। अखिलेश यादव करप्शन करने वालों के साथ। अगर पांच साल काम किया है तब क्यों उनको गठबंधन के लिए साथ ढूंढना पड़ रहा है। अखिलेश यादव के पिता जी नाराज हैं प्रचार नहीं कर रहे हैं। यूपी की जनता जानती है।

निर्मला सीतारण के साथ विजय बहादुर पाठक और पार्टी के महासचिव भूपेंद्र यादव।

राम मंदिर को घोषणापत्र में शामिल करने के सवाल पर सीतारमण ने कहा कि जब हम राम मंदिर को नहीं शामिल करते हैं तब कहा जाता है कि इस मुद्दे से भाजपा बच रही है। जब हम शामिल कर लेते हैं तब कहा जाता है कि राम के नाम पर राजनीति हो रही है। इसमें कोई भी राजनीति नहीं है। राम मंदिर आस्था का सवाल है। मंदिर बनेता तो यहां ही बनेगा कोई मलेशिया या इंडोनेशिया में तो नहीं बनेगा।

Share it
Top