उत्तर प्रदेश के चुनाव में बिजली बड़ा मुद‍्दा

उत्तर प्रदेश के चुनाव में बिजली बड़ा मुद‍्दासर्वेक्षण में मतदाताओं ने कही दिल की बात, दूसरे नंबर पर रोजगार और तीसरे पर साफ पानी की समस्या

इंडियास्पेंड

लखनऊ। सपा और भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में भले ही अधिक बिजली देने की बात कही हो लेकिन प्रदेश के एक तिहाई मतदाताओं के लिए बिजली और कटौती बड़ा मुद्दा है।

आंकड़ा विश्लेषक कंपनी फोर्थलायन टेक्नोलॉजीज द्वारा इंडियास्पेंड के लिए किए गए एक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है। फोर्थलायन ने राज्य में पंजीकृत 2,513 मतदाताओं से टेलीफोन के जरिए साक्षात्कार किया। साक्षात्कार में भाग लेने वाले करीब 28 फीसदी मतदाताओं ने कहा कि राज्य में बिजली कटौती सबसे बड़ा मुद्दा है। करीब 20 फीसदी ने रोजगार, अर्थव्यवस्था और विकास को सबसे बड़ा मुद्दा बताया, जबकि 10 फीसदी ने कहा कि साफ पानी की कमी सबसे बड़ा मुद्दा है।

भारतीय जनता पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में प्रदेश में सरकार बनने पर गाँव और शहर दोनों में 24 घंटे बिजली देने का वादा किया है। वहीं समाजवादी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में कहा है कि शहरों के साथ ही अब गाँवों को भी 24 घंटे बिजली देंगे। साथ ही सपा ने बताया है कि उसने अपनी सरकार में गाँवों को 16 घंटे और शहरों का 24 घंटे बिजली दी है।

हर बार चुनाव से पहले बिजली याद आती है। फिर उसके बाद पार्टियां भूल जाती हैं कि गाँव में बगैर बिजली के कैसे जिंदगी कटती है। आती भी है बिजली तो दो से चार घंटे अब इतनी देर बिजली मिलने से हम लोगों का क्या काम होगा।
राजमोहन, कुरावली क्षेत्र, मैनपुरी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 11 फरवरी से मतदान शुरू हो रहे हैं। इसमें 13.8 करोड़ मतदाता हिस्सा लेंगे।

जनसंख्या के आंकड़ों के अनुसार, बिजली को ऊर्जा के प्रमुख स्रोत के रूप में इस्तेमाल करने वाले घरों की संख्या बढ़कर वर्ष 2011 में 36.8 फीसदी हो गई, जो कि वर्ष 2001 में 31.9 फीसदी थी। इसमें शहरी और ग्रामीण इलाकों में एक बड़ा अंतर है।

आंकड़े बताते हैं कि साल 2011 में 81.4 फीसदी शहरी घरों में बिजली को प्रमुख ऊर्जा स्रोत के रूप में इस्तेमाल किया गया, जबकि ग्रामीण इलाकों में यह संख्या केवल 23.7 फीसदी रही। सरकारी आंकड़े बताते हैं कि साल 2016 के अंत तक उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों के 1,77,000 घरों में बिजली नहीं थी। मार्च 2014 में इसकी संख्या 1,85,900 थी।

फोर्थलायन-इंडियास्पेंड के सर्वेक्षण में पता चला कि यहां तक कि जिन घरों में बिजली है, उन्हें भी बिजली कटौती का सामना करना पड़ता है। सर्वेक्षण में शामिल 38 फीसदी लोगों का कहना है कि वे रोज बिजली कटौती का सामना करते हैं, जबकि 16 फीसदी का कहना है कि उन्हें हर दिन नहीं, लेकिन साप्ताहिक रूप से बिजली कटौती का सामना करना पड़ता है।

ज्यादातर घरेलू महिलाओं और ग्रामीण मतदाताओं को पुरुषों और शहरी मतदाताओं की तुलना में बिजली कटौती का ज्यादा सामना करना पड़ता है। नई दिल्ली के थिंक टैंक ‘सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च’ के वरिष्ठ सदस्य नीलांजन सरकार ने कहा, “बिजली कटौती एक गंभीर मुद्दा है और इसलिए मतदाता इसे शिक्षा और स्वास्थ्य की तुलना में एक बड़ी समस्या के रूप में देख सकते हैं।”

बेरोजगारी भी मुद्दा

रिपोर्ट के मुताबिक कुछ मतदाताओं ने कहा कि सड़क, भोजन, नोटबंदी, अपराध, भ्रष्टाचार, कृषि, स्वच्छता, स्वास्थ्य और शिक्षा सबसे बड़े मुद्दे हैं। सर्वेक्षण में शामिल 20 प्रतिशत मतदाताओं ने कहा कि उत्तर प्रदेश में रोजगार सबसे बड़ा मुद्दा है। श्रम मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, राज्य में कामगार आबादी की संख्या 2009 से 2015 के बीच प्रति 1,000 व्यक्ति पर 82 से घटकर 52 रह गई लेकिन यह भारतीय औसत (37) से ज्यादा है। बेरोजगार युवाओं की संख्या इससे कहीं ज्यादा है। 2015-16 में 18-29 के उम्र वर्ग में प्रति 1,000 व्यक्तियों पर यह संख्या 148 पाई गई।

Share it
Top