सुब्रमण्यम स्वामी का दावा-अयोध्या में राम मंदिर 2017 में बनेगा 

सुब्रमण्यम स्वामी का दावा-अयोध्या में राम मंदिर 2017 में बनेगा सुब्रमण्यम स्वामी, भाजपा सांसद

नई दिल्ली (भाषा)। भाजपा नेताओं ने बुधवार को कहा कि राममंदिर मुद्दा कोई चुनावी मुद्दा नहीं बल्कि आस्था का विषय है और इसे यूपी के आगामी चुनाव से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। एक दिन पहले ही भाजपा नेता विनय कटियार ने कहा था कि मंदिर के नाम पर केवल ‘‘लॉलीपॉप'' की पेशकश की जा रही है।

भाजपा नेता एवं राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कटियार को भरोसा भी दे दिया कि अयोध्या में राममंदिर का निर्माण 2017 में होगा और संग्रहालय जिसके लिए जमीन अब ली जा रही है बाद में 2019 तक ही आएगा।

स्वामी ने कहा, ‘‘राम मंदिर निर्मित होगा। हमारी परंपरा के अनुसार मंदिर का निर्माण अकेले नहीं होता और ऐसे संग्रहालय उसके आसपास निर्मित होंगे। संग्रहालय के लिए मात्र जमीन ली गई है और इसका निर्माण बाद में 2019 तक ही होगा। राममंदिर उससे पहले बन जाएगा और इसीलिए कटियार को निश्चिंत होना चाहिए।''

उन्होंने यह भी दावा किया कि प्रयास यह है कि राममंदिर 2017 तक बनना चाहिए जैसा कि भाजपा ने 2014 के अपने घोषणापत्र में वादा किया है। उन्होंने कहा, ‘‘यह आस्था का बयान नहीं है. यदि इसमें विलंब भी होता है फिर भी हमें अपना वादा कायम रखना है।''

केंद्रीय मंत्रियों एम वेंकैया नायडू और उमा भारती ने कहा कि उनके लिए राममंदिर कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं बल्कि आस्था का विषय है। नायडू ने कहा, ‘‘राममंदिर कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं बल्कि यह आस्था का विषय है...पहले आप पूछते हैं कि क्या राममंदिर एजेंडा में नहीं है, उसके बाद आप शीर्षक बनाएंगे कि राममंदिर कोई मुद्दा नहीं और भाजपा ने उसे छोड़ दिया है। यदि हम कुछ नहीं कहेंगे तो आप कहेंगे कि भाजपा ने राममंदिर छोड़ दिया है।''

उन्होंने कहा, ‘‘यदि प्रतिक्रिया दी जाती है तो आप कहते हैं कि क्या केवल राममंदिर ही एकमात्र मुद्दा है। राममंदिर एक आस्था का विषय है। हमें उस पर चर्चा के आधार पर या अदालत के आदेश के आधार पर आगे बढने ही जरूरत है। कुछ लोग ध्यान बंटाने का प्रयास कर रहे हैं।''

Share it
Top