सपा में बर्खास्त युवा नेताओं की वापसी की मांग

सपा में बर्खास्त युवा नेताओं की वापसी की मांगप्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। मुलायम कुनबे में विवाद थमता नहीं दिख रहा है। सोमवार को अखिलेश को सीएम पद का चेहरा बताने के बाद मंगलवार को सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने बर्खास्त किए गए युवा नेताओं को वापस लेने की वकालत की। वहीं कुछ युवा नेताओं ने साथी नेताओं को वापस न लिए जाने पर सपा के रजत जयंती समारोह में हिस्सा न लेने की बात कही है।

क्योंकि पूरी शक्ति से उतरना होगा चुनाव में

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नन्दा ने कहा कि हाल में पार्टी से बर्खास्त किये गये युवा नेताओं को वापस लिया जाना चाहिए। नन्दा ने कहा कि विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में सपा को पूरी शक्ति के साथ चुनाव मैदान में उतरना होगा। ऐसे में जरुरी है कि हाल में सपा से बर्खास्त किये गये युवा नेताओं को दोबारा पार्टी में लाया जाए।

उन्हीं को लेना होगा निर्णय

उन्होंने बताया कि मंगलवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ उनकी बैठक हुई थी, जिसमें आगामी विधानसभा चुनाव प्रचार को लेकर बातचीत हुई। यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान युवा नेताओं की सपा में वापसी के सिलसिले में कोई बात हुई, इस सवाल पर नन्दा ने कहा कि यह तो पार्टी नेतृत्व से जुड़ा मामला है और इस बारे में उन्हें ही निर्णय लेना होगा।

अखिलेश के करीबियों को किया था बर्खास्त

अखिलेश को हटाकर शिवपाल को सपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाये जाने के बाद गत 17 सितम्बर को सपा के सभी युवा संगठनों के कार्यकर्ताओं ने पार्टी राज्य मुख्यालय के बाहर अखिलेश के समर्थन में नारेबाजी की थी। उसके दो दिन बाद विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह यादव, आनन्द भदौरिया तथा संजय लाठर और मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव दुबे एवं प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद एबाद, युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष बृजेश यादव और समाजवादी छात्रसभा के प्रान्तीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव को पार्टी से निकाल दिया गया था। ये सभी अखिलेश के करीबी माने जाते हैं।

तो नहीं शरीक होंगे रजत जयंती समारोह में

इस बीच, सूत्रों के मुताबिक बर्खास्त युवा नेताओं की वापसी को लेकर दबाव बनाने के लिये कुछ युवा नेताओं ने बैठक करके कहा है कि अगर निष्कासित नेताओं को पार्टी में वापस नहीं लिया गया तो वे भी आगामी पांच नवम्बर को सपा के रजत जयन्ती समारोह में शरीक नहीं होंगे। सपा आगामी पांच नवम्बर को अपना रजत जयन्ती समारोह मनाएगी। पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव ने इसमें सभी विधायकों, सांसदों तथा तमाम कार्यकर्ताओं को शामिल होने के निर्देश दिये हैं।

हम लगातार क्षेत्र में सीएम अखिलेश यादव के लिए प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। वापसी को लेकर किसी पदाधिकारी की क्या बात हुई है, इसकी अभी हमें जानकारी नहीं है। हम लगातार चुनाव को लेकर सपा और मुख्यमंत्री के किए गए प्रयासों को जनता तक पहुंचा रहे हैं।
सुनील सिंह यादव ‘साजन’, विधान परिषद सदस्य

Share it
Top