अक्षय ऊर्जा निवेश मामले में भारत, चीन सबसे अव्वल

अक्षय ऊर्जा निवेश मामले में भारत, चीन सबसे अव्वलगाँवकनेक्शन

यूएन (भाषा)। संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में तैयार एक ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि विकासशील देशों में नवीकरणीय उर्जा परियोजनाओं में निवेश के मामले में भारत और चीन 2015 में सबसे आगे रहे। पिछले साल सौर, पवन और उर्जा के अन्य अक्षय स्रोतों में निवेश की प्रतिबद्धता के मामले में उभरते देशों ने धनी देशों को पहली बार पीछे छोड़ा है।

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत, चीन और ब्राजील समेत विकासशील देशों ने पिछले साल नवीकरणीय उर्जा की नई क्षमता खड़ी करने के लिए 156 अरब डालर की प्रतिबद्धता जताई। ये वर्ष 2014 के मुकाबले 19 प्रतिशत अधिक है। इसके विपरीत विकसित देशों का इस क्षेत्र में निवेश 2015 में घट कर 130 अरब डालर रहा।

रिपोर्ट के मुताबिक़ पिछले साल पहली बार विकासशील देशों ने अक्षय उर्जा के क्षेत्र में निवेश के मामले में विकसित देशों को पीछे कर दिया। रिपोर्ट के अनुसार इसमें सबसे बड़ा योगदान चीन का रहा जिसने साल के दौरान 102.9 अरब डालर के निवेश की प्रतिबद्धता जताई जो पिछले साल से 17 प्रतिशत अधिक है।

चीन ने इस तरह अकेले ही पूरी दुनिया में की गयी निवेश की प्रतिबद्धता में एक तिहाई से अधिक का योगदान किया। साल के दौरान भारत भी इस क्षेत्र में निवेश करने वाले 10 शीर्ष देशों में रहा। साल के दौरान भारत ने 10.2 अरब डालर के निवेश की प्रतिबद्धता जताई जो एक साल पहले से 22 प्रतिशत अधिक है। पिछले साल इस तरह के निवेश के मामले में सबसे उपर रहे दस देशों में अमेरिका, जापान , ब्रिटेन, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, मैक्सिको और चिली भी शामिल हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top