बाराबंकी के 936 नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों ने ली शपथ

बाराबंकी के 936 नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों ने ली शपथ

सतीश कश्यप 

बाराबंकी। जनपद में आज 15 ब्लाकों के कुल 936  नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों को बीडीओ द्वारा सपथ दिला उन्हें ग्राम प्रधानी की कुर्सी दे दी गयी वैसे तो जिले में कुल 1169 ग्राम पंचायतें है लेकिन 233 ग्राम पंचायतों में पंचायत सदस्य की पर्याप्त सीटें न होने के कारण उनलोगो को उस समय सपथ दिलाई जाएगी जब दोबारा सदस्यों के चुनाव के बाद दो तिहाई सदस्यों का कोरम पूरा हो जाएगा बातचीत के दौरान जिले के जिला पंचायत राज अधिकारी अभय कुमार शाही ने जानकारी देते हुए ये बात कही। ब्लाकों में सपथ समारोह के दौरान ग्राम प्रधानी की नयी कुर्सी पाने वाले ग्राम प्रधान पुरुष और महिलावों के चेहरों पर प्रधानी की जीत की खुशिया साफ़ साफ़ झलक रही थी जो लोग पहली बार गाँव के प्रधान बनाये गए उनके अपने लोग गाँव में उनकी अपनी सरकार बनने के बाद खूब उत्साहित दिख रहे थे लेकिन इन नए चेहरों के साथ साथ जनता के बीच में पिछले कई ग्राम प्रधानी कर चुके वो पुराने प्रधान भी मौजूद दिखे जिनको ग्रामीणों ने एक बार फिर से फिर गाँव की जिम्मेदारी दी है ऐसे में जिले के सत्ताधारी विधायक और मंत्री ग्राम प्रधानों के इस सपथ समारोह में न पहुँचते ऐसा होने वाला नहीं था क्योकी अखिलेश सरकार के मंत्री और विधायकों को इस गोपनीयता शपथ समारोह में आगामी होने वाले विधान सभा 2017 का चुनाव नजर इन प्रधानों में अभी से दिखाई दे रहा है, जिले के बंकी और देवा ब्लाक में ग्राम प्रधानों के इस शपथ समारोह के दौरान बाराबंकी विधान सभा के विधायक सुरेश यादव उर्फ़ धर्म राज भी पहुंच गए जहा उन्होंने यूपी सरकार की योजनावों का खुलकर बखान किया वही यहाँ मौजूद सपा से समर्थित ग्राम प्रधान तो विधायक की वाह वाही में लगे रहे लेकिन विपक्ष पार्टियों बसपा और बाजपा से जुड़े ग्राम प्रधान अपनी जुबान खामोश रख ये सब सुनते रहे  ऐसे में ये साफ़ हो गया है की विधान सभा चुनाव 2017 को लेकर सपाइयों में चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है। लेकिन इस ग्राम प्रधानी के चुनाव में ये बिलकुल साफ़ गाव की जनता ने ऐसे ग्राम प्रधानों की कुर्सी छीन ली है जिन्होंने कुर्सी का दुरूपयोग कर जनता को पांच साल तक गुमराह कर विकास ने नाम पर सरकारी खजाने में डाका डाल दिया जनता ने उन ग्राम प्रधान उम्मीदवारों को भी सबक सिखाया है जिन्होंने जनता से नोट के बदले वोट लेने की हर कोशिश की।

जिले की 5 तहसीलों के 15 ब्लाकों में आज नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों को बीडीओ द्वारा शपथ दिलाई गयी , तहसील नवाबगंज के बंकी और देवा ब्लाक में बीडीओ ओमप्रकाश यादव और डॉ. घनश्याम त्रिपाठी ने प्रधानों को शपथ दिला प्रधानी की कुर्सी उनके हवाले कर दिया है। देवा ब्लाक में कुल 88 ग्राम प्रधानो को शपथ दिलाई जानी थी जिनमे से केवल 77 ग्राम प्रधान को ही आज शपथ दिलाई गयी जबकि 11 ग्राम प्रधान ऐसे थे जिनके ग्राम पंचायत सदस्यों का कोरम पूरा नहीं था  यहाँ सबसे ज्यादा नए ग्राम प्रधानों ने शपथ लिया है  33 तो महिला ग्राम प्रधान थी वही बंकी ब्लाक क्षेत्र से कुल जीते 62 ग्राम प्रधानों ने शपथ लेकर गाँव में बेहतर विकास के अलावा निष्पक्षता और इमानदरी से काम कराये जाने की घोषणा की है यहाँ कोरम पूरा था जहा महिलावों की संख्या 27 थी बाकी पुरुष ग्राम प्रधान अपने अपने क्षेत्र से जीत कर आये थे।

बाराबंकी में इस बार की प्रधानी चुनाव में गाँव की जनता ने खुलकर मतदान कर एक नया रिकार्ड बनाने के साथ साथ ग्रामीणों पर खरे न उतरने वाले उन प्रधान उम्मीदवारों को एक सबक भी दिया है जिन्होंने हर कीमत पर प्रधानी का चुनाव जीतने के उपाय किये थे मसौली ब्लाक के बाँसा में इस बार यहाँ ग्रामीणों ने ग्राम प्रधानी चुनाव में ऐतिहासिक फैसला देते हुए पिछले कई वर्षों से प्रधानी की कुर्सी थाम रहे जमींदारी किदवई परिवार के बिलाल मंजूर किदवई को यहाँ की महिला अनुकम्पा ने 131 वोटो से उन्हें हरा कर  कुर्सी पर कब्जा कर लिया है और यहाँ के पूर्व प्रधान इस पंचायती चुनाव में वो पांचवे स्थान पर जा पहुंचे। पिछले पांच ग्राम प्रधानी का चुनाव हार चुके ग्राम प्रधान महिला अनुकम्मा यादव के पति राम सिंह यादव का कहना है की जिस तरह से गाव की जनता ने उन्हें गाव के बेहतर विकास और लोगो की तरक्की के लिए उन्हें जिम्मेदारी के साथ ये कुर्सी दी है इस कुर्सी का दुरूपयोग कभी भी नहीं किया जाएगा और क्षेत्र में हर किसी की मदद की जाएगी। 

वही तहसील हैदरगढ़ के ब्लाक त्रिवेदी गंज के शिवनाम ग्राम पंचायत से नव निर्वाचित ग्राम प्रधान विवेक वर्मा को भी जनता ने ऐतिहासिक जीत दिलाई है पिछले कई वर्षों का रेकॉर्ड तोड़ते हुए यहाँ के लोगो ने मौजूदा रह चुके ग्राम प्रधान राजेश कुमार उर्फ़ मन्ना वर्मा को 817 वोटों से हराकर उन्हें ये जीत दिलाई है और इस ग्राम पंचायत में इतनी वोटो से अभी तक यहाँ कोई भी ग्राम प्रधान नहीं चुना गया है आज उन्होंने भी सपथ ले गाँव में बेहतर विकास करवाने का दावा किया है।

अब ये तो आगे आने वाला समय ही बताएगा की जो शपथ आज ग्राम प्रधानों द्वारा गाव की जनता के लिए निष्पक्षता और ईमानदारी से काम करने की ली गयी है वो शपथ पूरे पांच साल तक उन्हें याद रहेगी और उनपर कोई दाग नहीं लगेगा जिससे जनता के बीच उनकी साफ़ सुथरी गाव की राजनीति झलकती रहेगी 

Tags:    India 
Share it
Top