भारत में वर्ष 2020 तक पैदा होगा 52 लाख टन ई-कचरा

भारत में वर्ष 2020 तक पैदा होगा 52 लाख टन ई-कचराgaonconnection

मुंबई (भाषा)। देश में वर्ष 2020 तक 52 लाख टन ई-कचरा पैदा होने का अनुमान है। अभी यह 18 लाख टन के स्तर पर है। एक अध्ययन में यह अनुमान लगाया गया है। दुनिया में भारत पांचवां सबसे बड़ा ई-कचरा उत्पादक है।

एसोचैम-सीकाइनेटिक्स के अध्ययन में कहा गया है कि भारत का ई-कचरा सालाना 30 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है। वैश्विक स्तर पर ई-कचरे का उत्पादन 2018 में 13 करोड़ टन पर पहुंच जाने का अनुमान है। यह 2016 में 9.35 करोड़ टन रहने का अनुमान है। वर्ष 2016 से 2018 के दौरान इसमें 17.6 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि होगी।

अध्ययन में कहा गया है कि भारतीय अमीर होने के साथ इलेक्ट्रानिक उत्पादों तथा उपकरणों पर अधिक खर्च कर रहे हैं। कुल ई-कचरे में कंप्यूटर उपकरणों का हिस्सा लगभग 70 प्रतिशत बैठता है। दूरसंचार उपकरणों का इसमें हिस्सा 12 प्रतिशत है, जबकि इलेक्ट्रिकल उपकरणों का आठ प्रतिशत तथा चिकित्सा उपकरणों का सात प्रतिशत है। अन्य में घरों से निकलने वाले कचरे का हिस्सा चार प्रतिशत है।

इसमें कहा गया है कि देश के कुल ई-कचरे में से मात्र डेढ़ प्रतिशत की ही रिसाइक्लिंग हो पाती है। इसकी वजह खराब ढांचा, कानून व रुपरेखा है।

अध्ययन में कहा गया है कि देश में उत्पन्न कुल ई-कचरे के 95 प्रतिशत का प्रबंध संगठित क्षेत्र और स्क्रैप डीलरों द्वारा किया जाता है। ई-कचरे में मुख्य रुप से कंप्यूटर मॉनिटर, मदरबोर्ड, कैथोड रे ट्यूब्स, प्रिंटिड सर्किट बोर्ड (पीसीबी) मोबाइल फोन और चार्जर, कॉम्पैक्ट डिस्क, हेडफोन, व्हाइट गुड्स मसलन क्रिस्टर डिस्प्ले-प्लाज्मा टीवी, एसी और रेफ्रिजरेटर आदि आते हैं।

Tags:    India 
Share it
Top