बन्द होगी Parle-G बिस्कुट की सबसे पुरानी फैक्ट्री

बन्द होगी Parle-G बिस्कुट की सबसे पुरानी फैक्ट्रीgaonconnection

मुंबई। शायद ही कोई हो जिसने पारले-जी (Parle-g) बिस्कुट न खाया हो, देश के सबसे पसंदीदा बिस्कुट ब्रांड्स में से एक पार्ले-जी (Parle-g) बिस्कुट कंपनी की एक सबसे पुरानी उत्पादन यूनिट बंद होने जा रही है।

बेहद कम कीमत पर आसानी से मिलने वाली इस बिस्कुट की फैक्ट्री करीब 87 साल पुरानी है, लेकिन मुंबई के विलेपार्ले स्थित फैक्ट्री को कंपनी ने बंद करने का फैसला लिया है।

दरअसल इस कारखाने में प्रोडक्शन कम होने के कारण कंपनी ने इसे बंद करने का फैसला लिया है। इस फैक्ट्री का कारोबार 10,000 करोड़ रुपए का है। यहां करीब 300 कर्मचारी काम करते थे, लेकिन कर्मचारियों ने धीरे-धीरे समय से पहले रिटायरमेंट (VRS) ले लिया। 

विलेपार्ले में कंपनी की स्थापना साल 1929 में हुई थी। साल 1939 से यहां ग्लूको नाम से बिस्कुट बनना शुरू हुआ। साल 1980 में इसका नाम बदलकर पार्ले-जी रख दिया गया। अब 87 साल बाद ये सफर खत्म होने वाला है। 

पारले-जी (Parle-g) बिस्कुट के बारे में कुछ खास बातें

1- कंपनी का नारा है, जी का मतलब जीनियस (प्रतिभाशाली)। पारले जी (Parle-g) नाम को उपनगरीय रेल स्टेशन विले पार्ले से लिया गया है जो स्वयं पार्ले नामक पुराने गाँव पर आधारित है।

2- पारले प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्मित पार्ले-जी (Parle-g) या पार्ले ग्लूकोज बिस्कुट भारत के सर्वाधिक लोकप्रिय बिस्कुटों में से एक हैं। पार्ले-जी (Parle-g) सबसे पुराने ब्रांड नामों में से एक होने के साथ-साथ भारत में सर्वाधिक बिक्री वाला बिस्कुट ब्रांड भी है।

3- अक्सर इस बिस्कुट के पैकेट पर छपी बच्चे की फोटों के बारे में चर्चा होती रहती है कि आखिर यह बच्चा कौन है? कुछ दिनों पहले इसे नीरू देशपांडे के बचपन की फोटो बतायी गई लेकिन यह फोटो किसी मॉडल या सेलिब्रेटी की नहीं बल्कि एक ऐनिमेटेड पिक्चर है जिसका निर्माण 1979 में किया गया था।

4- वीकिपीडिया के मुताबिक नीलसन सर्वे की मानें तो पारले जी (Parle-g) विश्व में सर्वाधिक बिक्री वाला बिस्कुट है। भारत के ग्लूकोज बिस्कुट श्रेणी के 70% बाजार पर इसका कब्जा है, इसके बाद नंबर आता है ब्रिटानिया के टाइगर (17-18%) और आईटीसी के सनफीस्ट (8-9%) का।

5- 1929 में भारत जब ब्रिटिश शासन के अधीन था तब पारले जी (Parle-g) पार्ले प्रोडक्ट्स नामक एक छोटी कंपनी का निर्माण हुआ था। मुंबई के उपनगर विले पारले जी (Parle-g) (पूर्व) में मिठाइयों तथा टॉफियों (जैसे कि मेलोडी, कच्चा मैंगो बाईट आदि) के उत्पादन के लिए एक छोटे कारखाने को स्थापित किया गया। एक दशक बाद वहां बिस्कुट का उत्पादन भी शुरू कर दिया गया जिसके बाद  से बढ़कर यह भारत की सबसे बड़ी खाद्य उत्पाद कंपनियों से एक हो गयी है।

6- आज पारले जी (Parle-g) बिस्कुट 2 रूपये से लेकर 50 रूपये तक आता है लेकिन सबसे ज्यादा बिकने वाले पैकट 2 रूपये वाला ही है।

7- पारले कंपनी और भी बहुत सारी चीजें बनाती हैं जैसे कि सॉस, टॉफी, केक लेकिन इन सब का मार्केट बिस्कुट के आगे फेल है।

8- पारले जी (Parle-g) बिस्कुट समाज का हर वर्ग चाहे वो गरीब हो या करोड़पति, चाहे वो बच्चा हो या बूढ़ा, हर कोई खाता है।

9- 2009-10 के आंकड़ों पर गौर करें तो पारले-जी (Parle-g) की बिक्री दुनिया के चौथे सबसे बड़े बिस्कुट उपभोक्ता मुल्क चीन से भी ज्यादा है।

10- भारत से बाहर पारले-जी यूरोप, ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, आदि में भी उपलब्ध है। पारले जी (Parle-g) अकेला ऐसा बिस्कुट होता है जो कि गांवों से लेकर शहरों तक में एक ही रेट से बिकता है और दोनों जगह ही इसकी लोकप्रियता एक समान है।

Tags:    India 
Share it
Top