बुंदेलखंड के उत्पादों की बिक्री के लिये ऑनलाइन पोर्टल

बुंदेलखंड के उत्पादों की बिक्री के लिये ऑनलाइन पोर्टलgaonconnection

भोपाल (भाषा)। अपनी तमाम विशेषताओं के बावजूद सूखा, गरीबी, पलायन और पिछड़ेपन के लिये चर्चित बुंदेलखंड को इस नकारात्मक धारणा से बाहर निकालने के लिये क्षेत्र के एक युवा ने ‘ब्रांडबुंदेलखंडडॉटकॉम’ नाम से एक ऑनलाइन प्लेटफार्म की शुरुआत की है। इस ऑनलाइन बाजार के जरिये बुंदेलखंड की प्रसिद्ध और गुमनाम दोनों तरह की खूबियों को मंच देने की कोशिश की गई है।

बीते एक दशक में लगातार सूखे की मार और राजनीति ने बुंदेलखंड के असल स्वरूप की कहीं पीछे छोड़ दिया है। देश में इस इलाके की पहचान अब गरीबी और पिछड़ेपन के कारण हो रही है। इसका जिक्र कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई नेता लोकसभा में कर चुके हैं। ब्रांडबुंदेलखंडडॉटकॉम इसी नकारात्मक अवधारणा को तोड़ने का प्रयास करेगा।

भोपाल के युवक सचिन चौधरी ने बताया कि ब्रांडबुंदेलखंडडॉटकॉम ऑनलाइन बाजार के जरिये महोबा के पान, सागर की चिरोंजी से बनी बर्फी और नमकीन, ओरछा का कलाकंद, बांदा का सोहन हलवा, बरुआसागर के पेडे सहित तमाम बुंदेली व्यंजन सीधे लोगों के घर पहुंचाये जाएंगे। उन्होंने बताया कि बुंदेलखंड में धार्मिक मान्यताओं के सामान के साथ ही हमने एक अनूठी पहल करते हुए यहां के तीन प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों ओरछा, दतिया और चित्रकूट के प्रसाद को देश-दुनिया तक भेजने की तैयारी भी की है।

बुंदेलखंड का सब कुछ अनूठा है

भोपाल के युवक सचिन चौधरी ने इसके जरिये बुंदेलखंड की तमाम विशेषताओं, कला संस्कृति, खान-पान आदि चीजों को एक बड़ा बाजार देने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा, “मैं बुंदेलखंड का रहने वाला हूं और वहां की समृद्ध संस्कृति और ऐतहासिक वीर गाथाओं को सुनते-सुनते बड़ा हुआ हूं। इनमें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, महाराजा छत्रसाल और डॉ. हरिसिंह गौर जैसे महान लोगों की गाथाएं शामिल हैं। बुंदेलखंड की धरती अपने में हीरे की खदानें भी समाये है, तो यहां पन्ना टाइगर रिजर्व और खजुराहों जैसे विश्व प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र भी हैं। यहां की बोली, संस्कृति, कला और खान-पान सब कुछ अनूठा है।”

ब्रांडबुंदेलखंड डॉट कॉम के नाम विशेष स्टोर

भोपाल के मॉल सहित अन्य नगरों में ब्रांडबुंदेलखंड डॉट कॉम के नाम से विशेष स्टोर खोले जा रहे हैं। यहां बुंदेलखंड के उत्पाद लोगों के सामने प्रदर्शन और बिक्री के लिये पेश किये जाएंगे। सचिन चौधरी ने बताया कि बुंदेलखंड के पहनावे में चंदेरी की विश्व प्रसिद्ध सिल्क साडि़यां, रानीपुर का टेरीकाट और स्थानीय खादी के कपड़े भी ऑनलाइन मिलेंगे। इसके साथ ही बुंदेलखंड के महापुरुषों और स्थलों के फोटो प्रिंट की टी शर्ट भी मिलेंगी।

बुंदेलखंड को मिलेगा नया मुकाम

सचिन चौधरी ने बताया कि अब तक पर्यटन के नाम पर सिर्फ ओरछा, खजुराहो को ही बुंदेलखंड में पहचान मिल पाई है लेकिन इस वेबसाइट में बुंदेलखंड के हर जिले के विशेष टूर पैकेज और लोगों की पहुंच से दूर के पर्यटन स्थल भी शामिल हैं। इस कोशिश के जरिये बुंदेलखंड को निश्चित तौर पर नया मुकाम हासिल होगा। उन्होंने कहा कि हस्तशिल्प के सामानों में ललितपुर जिले के जखौरा, टीकमगढ़, महोबा के श्रीनगर में बनने वाली पीतल की मूर्तियां, पत्थर के सजावटी सामान, बुंदेली कलाकारों की पेंटिंग जैसे सभी तरह के हस्तशिल्प उत्पाद यहां शामिल होंगे। खास बात यह है कि सीधे निर्माताओं के जरिये खरीदे जाने के चलते इन सामानों का दाम बाजार से कम होगा।

Tags:    India 
Share it
Top