दबंगों ने डाला सरकारी ज़मीन पर डाका

दबंगों ने डाला सरकारी ज़मीन पर डाकाgaoconnection

लखनऊ। रायबरेली रोड के कल्ली पश्चिम गाँव में दबंग और भू-माफियाओं के खिलाफ जिला प्रशासन ने चाबुक चलाते हुए 65  बीघा जमीन मुक्त कराई। भू-माफिया बनवारी लाल यादव और पूर्व ब्लॉक प्रमुख के साथ अन्य लोगों ने सरकारी जमीनों पर कब्जा कर पक्के निर्माण कर रखे थे, इसके साथ ही दर्जनों बीघा जमीन को प्लाटिंग कर बेच दिया था।

ग्राम सभा के मजरा जगत खेड़ा की खसरा संख्या 1576 राजस्व अभिलेखों में बंजर दर्ज है। इस जमीन को स्थानीय दबंगों ने बकायदा बोर्ड लगाकर प्लाटिंग डाली। बोर्ड में इस जमीन को दबंग प्रॉपटी डीलरों ने आवास मुक्त है, बताकर बेच डाली है।

अजय यादव से मुक्त कराई 15 बीघा जमीन

कल्ली पश्चिम गाँव के अजय यादव ने खसरा संख्या 1782 की 15 बीघा पर कब्जा जमा रखा था। पैमाइश में पता चला कि कब्जा की गई भूमि सरकारी अभिलेख में बंजर के तौर पर दर्ज है। इस जमीन पर अजय यादव ने बाउंड्रीवाल बना दी थी। खसरा संख्या 1665 में 20.5 बीघा, खसरा संख्या 1681 में पांच बीघा जमीन पर दबंगों ने कब्जा जमा रखा था। प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए इस इलाके के दबंग और सत्ता में पैठ की दम भरने वाले लोगों से कुल साढ़े 65 बीघा जमीन कब्ज़ा मुक्त कराई। 

इनके गिरे मकान

गाँव के खसरा संख्या 1576 पर करीब आधा दर्जन लोगों ने मकान बना रखे थे। इस जमीन पर बने हंसराज, सुषमा, सीमा, श्यामलाल, संध्या यादव, रामचरन के मकान प्रशासन ने जमींदोज कर दिए। संध्या यादव का कहना था कि करीब 15 साल पहले यह जमीन तत्कालीन प्रधान जगन्नाथ से खरीदी थी जिस पर वह मकान बना रह रही थी। इस मकान से आज मुझे बेघर कर दिया गया।

वहीं सूत्रों की माने तो इन जमीनों को स्थानीय दबंगों ने ही अनजान बाहरी लोगों को बेच पैसे कमाए, दबंगों का कोई नाम लेने को तैयार नहीं। वहीं कुछ लोगों ने प्रशासन पर एक तरफा कार्रवाई का आरोप लगाया। नायब तहसीलदार राहुल सिंह ने आरोपों को निराधार बताते हुए कहा, आरोप गलत है, पैमाइश के बाद कब्जे चिन्हित कर कार्रवाई की है।

सपा के पूर्व विधायक राजेंद्र यादव के समधी

बनवारी लाल यादव का सरोजनीनगर और रायबरेली रोड पर काफी दबदबा है। बनवारी यादव सपा के पूर्व विधायक राजेंद्र यादव के सगे समधी है। बनवारी यादव की पुत्री राजेंद्र यादव के बेटे को ब्याही है। उनकी बेटी हाल में सपा से निलम्बित किए गए विधायक रामपाल यादव की बेटी की देवरानी है। इसके साथ ही वह सरोजनीनगर से सपा विधायक शारदा प्रसाद शुक्ला के करीबी है। उनके खिलाफ पीजीआई थाना के अलावा कई थानों में गम्भीर आपरधिक मामले दर्ज हैं, बताया जा रहा है। 

बछरावां के सीओ को था पीटा

बनवारी लाल यादव का सत्ता में बड़ी हनक है। क्षेत्र का कोई भी व्यक्ति उसके गलत कारनामों को लेकर विरोध करने की जुर्रत नहीं रखता है। पीजीआई थाना क्षेत्र में एक वर्ष पूर्व बनवारी ने बछरावां में तैनात एक सीओ की गाड़ी को रोक कर बुरी तरह पीटा था। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा था। 

आपस में भिड़ गए अजय और बनवारी

पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजय यादव और बनवारी यादव की क्षेत्र में तूती बोलती है। दोनों एक-दूसरे के राजनीतिक विरोधी है। हाल में हुए क्षेत्र पंचायत के चुनाव में अजय यादव की पत्नी किरन यादव और बनवारी यादव की बेटी नीतू यादव ब्लॉक की दो सीटों आमने-सामने चुनाव खड़ी थीं। गाँव में ध्वस्तीकरण की कार्रवाई के दौरान दोनों आपस में भिड़ गए थे।  

18 लोगो के खिलाफ हुआ मुकदमा दर्ज 

सरकारी जमीन पर कब्जे मामले को लेकर पीजीआई थाने में 18 लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जिला प्रशासन ने राम चरण, अनिल मौर्या, हंसराज,शिवकुमार, राम सिंह, रामशंकर, अजय यादव, सचिन, रामदास, चन्द्रपाल, राम प्रकाश, शीतल, जगदीश, नवीन चन्द्र द्विवेदी, महेश, ननकऊ और बनवारी लाल यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top