डेढ़ वर्ष से बिना राशन के कैसे कटती है इनकी ज़िंदगी

डेढ़ वर्ष से बिना राशन के कैसे कटती है इनकी ज़िंदगीgaonconnection

लखनऊ। गरीबों के राशन पर कोटेदार और प्रधान डाका डाल रहे हैं। पात्र लोगों के नए राशन कार्ड बनाने की आड़ में कोटेदार अपनी मनमानी पर आमादा हैं।

गौरैया गाँव के कोटेदार प्रधान रामकुमारी के पक्ष के लोगों को राशन दे रहे हैं और जो उनके पक्ष में नहीं हैं, उनसे कहते हैं कि तुम्हारा राशन नहीं आया, अगली बार लेना। यही कहकर पिछले डेढ़ साल से कार्डधारकों को लौटाया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गाँव-गाँव में बांटे जा रहे राशन में कोटेदार धांधली कर कालाबाजारी कर रहे हैं। गौरैया गाँव के कोटेदार पिछले डेढ़ साल से गाँव वासियों को राशन नहीं दे रहे हैं, जबकि सरकार की तरफ से राशन कोटेदार के पास निरन्तर आ रहा है। गाँव वासियों के पूछे जाने पर कोटेदार बताते हैं कि तुम्हारे कार्डों में गड़बड़ी हो जाने के कारण राशन नहीं आ रहा है। इसलिए हम राशन नहीं बांट पा रहे हैं।

जिला मुख्यालय से 45 किमी. दूर माल ब्लॉक के अन्तर्गत आने वाले गौरैया ग्रामसभा में पिछले डेढ़ साल से कोटेदार प्रधान शिवबालक के पक्ष के कार्डधारकों को राशन बांट रहे हैं और जो उनके पक्ष में नहीं हैं, उन्हें कार्ड में गड़बड़ी बताकर वापस भेज देते हैं, लेकिन रजिस्टर पर निरन्तर राशन का विवरण अंकित कर रहे हैं, जिससे गाँव वासियों को राशन नहीं मिल पा रहा है। गाँव वासियों को बाहर से महंगे दामों में राशन खरीदना पड़ रहा है। जिससे गाँव वासियों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

गौरैया गाँव के निवासी खुशीराम (63 वर्ष) बताते हैं, “कोटेदार ने पिछले डेढ़ साल से कार्डधारकों को राशन नहीं वितरित किया है। गरीबों को बांटने के लिए आने वाले राशन की कालाबाजारी की जा रही है। कोटेदार की दबंगई से पूरा गाँव परेशान है।” इसी गाँव के निवासी कमला (55 वर्ष) बताती हैं, “मेरे पास एक बिस्वा भी जमीन नहीं है। जिससे हमारे घर में कुछ भी पैदावारी नहीं होती है। हमारा अन्त्योदय कार्ड तो बना है लेकिन कोटेदार रामकुमारी कहती हैं तुम्हारे कार्ड में कुछ गड़बड़ी है इसलिए तुम्हारा राशन नहीं आ रहा है। जिससे हमे बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।”

रिपोर्टर - सतीश कुमार सिंह

Tags:    India 
Share it
Top