देश भर के आम के पौधे यहां से जाते हैं

देश भर के आम के पौधे यहां से जाते हैंgaonconnection

मलिहाबाद (लखनऊ)। आम का मौसम समाप्ति पर है। नये बाग लगाने के लिए पौधों की बिक्री शुरू हो गयी है। नर्सरी मालिकों ने अपनी तैयार पौध बिक्री के लिए मण्डी में सजा दी है। यहां से देश के विभिन्न प्रान्तों के किसान आम के बाग लगाने के लिए पौधों की खरीद करने लगे हैं। निजी पौधशालाओं के अतिरिक्त राजकीय पौधशाला से भी आम व अन्य फलदार पौधों की बिक्री शुरू हो गयी है। 

इस आम फलपट्टी क्षेत्र में पौधों की बिक्री का मुख्य बाजार लखनऊ-हरदोई मार्ग पर मुजासा तिराहा है। यहां सजी पौधों की मण्डी में आम की विभिन्न प्रजातियों सहित अन्य फलदार, छायादार व शोभाकार पौधों की बिक्री हो रही है। यहां एक किलोमीटर लम्बाई में पौध बिक्री की करीब डेढ़ सैकड़ा दुकानें लगी हैं। यहां प्रदेश के विभिन्न जिलों सहित देश के विभिन्न प्रान्तों के किसान अपने खेतों मे बाग लगाने के लिए पौध की खरीद करने आ रहे हैं। इसके अलावा मांग के अनुसार विदेशों में भी पौध का निर्यात किया जाने लगा है।

आम पौध के अलावा अन्य फलों आंवला, लीची, कटहल, अमरूद, बेर, जामुन, महुआ, आंडू, नींबू, मुसम्मी, चीकू, सन्तरा, नाशपाती, पपीता, करौंदा, अंगूर, अनार, केला व किन्नू आदि पौधों की बिक्री का बाजार गरम है। आम की मुख्य प्रजाति दशहरी, चौंसा, लंगड़ा व लखनऊ सफेदा के अतिरिक्त रंगीन आकर्षक आमों की प्रजाति गौरजीत, याकूती, गिलास, हुस्नआरा, गुलाबखास, सुर्खा वर्मा, हरदिल अजीज, स्वर्ण रेखा व सुर्खा झाखड़बाग, चूसने वाली प्रजातियों मे गुलाब जामुन, शर्बती, अरूण, वरूण व हिमांश, अचार में प्रयोग की जाने वाली प्रजातियां रामकेला, नीलम, रूमानी, बंगलौरा व केतकी बिहार व बौनी प्रजातियों मे आम्रपाली, मलिका, नीलम, रूमाली, बेनिशान, राजीव, सौरभ, केसर, गौरव, वनराज व मालगोवा  के पौधे बिक्री के लिए उपलब्ध हैं।

इसी के साथ ही विदेशी किस्में नेते माडले, टामी एटकिन्स व संशेसन के पौधों की मांग भी जोरों पर है। शोभाकारी व सजावटी पौधों के साथ छायादार वृक्षों बरगद, चमचम, कदम्ब, पकरिया व नीम के पौधे बिक्री के लिए मौजूद हैं। इमारती लकड़ी की पौध शीशम, पापुलर, यूक्लिप्टस, सागौन व चीड़ की पौधे धडल्ले से बिक रहे है। निजी पौधशालाओं के अतिरिक्त सरकारी पौधशाला केन्द्रीय बागवानी उपोष्ण संस्थान रहमानखेड़ा व औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र मलिहाबाद पर भी फलदार पौधों की बिक्री का कार्य जारी है।

रिपोर्टर - सुरेन्द्र कुमार

Tags:    India 
Share it
Top