ये है दुनिया का सबसे ख़तरनाक क़ातिल

ये है दुनिया का सबसे ख़तरनाक क़ातिलमच्छर सबसे खतरनाक जानलेवा प्रजाति

लखनऊ। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पूरी दुनिया में मच्छर सबसे खतरनाक जानलेवा प्रजातियों में गिना जाता है। आंकड़ों की मानें तो वर्ष 2015 में पूरे विश्व में मच्छर ने 8 लाख से ज्यादा लोगों की जान निगल ली। आइये आपको बताते हैं कि दुनिया में सबसे खतरनाक जानवरों में जानलेवा प्रजाति मच्छर को सबसे खतरनाक क्यों गिना जाता है।

सबसे खतरनाक मच्छर

हाल की रिपोर्ट के आंकड़ों की मानें तो वर्ष 2015 में मच्छर के काटने से जनित रोगों से पूरी दुनिया में 8,30,000 लोगों ने अपनी जान गंवाई है।

सांप (snake)

मच्छर के बाद सबसे खतरनाक जानवर सांप है। वर्ष 2015 में पूरे विश्व में सांप के काटने से मरने वाले लोगों की संख्या 60,000 है।

सैंडफ्लाई (Sandfly)

sandfly

वर्ष 2015 में सैंडफ्लाई के काटने पर होने वाले जनित रोगों से 24,200 लोगों की मौत हो गई।

कुत्ता (Dog)

इसके बाद सबसे खतरनाक जानवरों में कुत्ता सबसे खतरनाक जानवर है। वर्ष 2015 में कुत्ते के काटने से 17,400 व्यक्तियों ने अपनी जान गंवाई।

किसिंग बग (Kissing bug)

kissing bug

वर्ष 2015 में किसिंग बग के काटने से 8,000 लोगों की मौत हो गई।

घोंघा (Freshwater snail)

वर्ष 2015 में विश्व में घोंघा से मारे जाने वाले व्यक्तियों की संख्या 4,400 तक पहुंच गई।

टेसेटसी मक्खी (Tsetse Fly)

Tsetse fly

यह एक अफ्रीकी मक्खी है जो निद्रा रोग उत्पन्न करती है। इस मक्खी के काटने से पिछले साल 3500 लोगों ने अपनी जान गंवाई।

बिच्छू (Scorpion)

बिच्छू के काटने से भी पूरे विश्व में वर्ष 2015 में 3500 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

एसकेरिस राउंड वॉर्म (Ascaris roundworm)

पिछले साल एसकेरिस राउंड वॉर्म की वजह से 2700 लोगों की मौत हो गई।

टेप वॉर्म (Tape worm)

टेप वॉर्म की वजह से 1600 लोगों ने अपनी जान गंवाई।

यह भी हैं खतरनाक जानवर

नाम मृतकों की संख्या (वर्ष 2015 में)

मगरमच्छ 1000

दरियाई घोड़ा 500

शेर 100

हाथी 100

मधुमक्खी 60

बाघ 50

जैलीफिश 40

भेड़िया 10

शार्क मछली 6

स्त्रोत: आईएचएमई, डब्लूएचओ, क्रॉक बाइट एफएक्यू, नॉरवेजियन इंस्टीट्यूट फॉर नेशर रिसर्च इंटरनेशनल शार्क अटैक फाइल, नेशनल जियोग्राफिक, पीबीएस, नेशनल साइंस फाउंडेशन, सीडीसी, डब्लूडब्लूएफ, फ्रेंच इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड डेवलपमेंट, वाइल्डरनेस एंड एनवॉयरमेंटल मेडिसिन, नेचर.

Share it
Top