तो इसलिए खत्म हुआ महाराष्ट्र के किसानों का आंदोलन

तो इसलिए खत्म हुआ महाराष्ट्र के किसानों का आंदोलनदूध को सड़कों पर बहाते महाराष्ट्र के किसान

मुंबई। महाराष्ट्र के किसानों ने शनिवार की सुबह चार बजे मुख्यंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात के बाद अपना आंदोलन खत्म कर दिया। मुख्यमंत्री फडणवीस ने देर रात तक किसानों से बातचीत की और इसके साथ ही उन्होंने कर्ज माफी के खाके को लेकर विभिन्न कृषि संगठनों से भी चर्चा की। महाराष्ट्र के ये किसान कर्ज माफी और फसलों के बेहतर दाम की मांग कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने किसानों को आश्वासन दिया कि वे 30 अक्टूबर तक इस समस्या का समाधान कर देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने किसानों ने मांगें मान ली हैं और 30 अक्टूबर तक जो लोग कर्ज अदायगी में सक्षम नहीं उनका लोन राज्य सरकार की तरफ से भरा जाएगा।

ये भी पढ़ें : भारत में किसानों की बदहाल तस्वीर दिखाते हैं हाल ही में हुए ये किसान आंदोलन

महाराष्ट्र के किसान कृषि उत्पादों की गिरती कीमतों से परेशान हैं। उनका कहना है कि मुनाफा तो दूर लागत भी नहीं निकल पा रही है। इसी वजह से किसान सरकार पर कर्ज माफी का ऐलान करने के लिए जोर दे रहे हैं।

गुरुवार को शुरू हुआ था आंदोलन

किसानों ने गुरुवार से सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था। इस आंदोलन के तहत किसानों ने मुंबई सहित विभिन्न शहरों को दूध-सब्जी की सप्लाई रोक दी थी। राज्य के विभिन्न हिस्सों में किसानों ने दूध के टैंकर को खोल कर सारा दूध हाईवे पर बहा दिया था। किसानों ने ट्रकों को बीच रास्ते में रोक कर फल-सब्जियों को सड़क पर गिरा दिया। खाद्य तेल, चॉकलेट, बिस्किट के पैकेटों का भी यही हाल किया गया।

ये भी देखें :

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top