जीएसटी हुआ फिट तो पीएम मोदी होंगे हिट 

जीएसटी हुआ फिट तो पीएम मोदी होंगे हिट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 

लखनऊ। जीएसटी हुआ फिट तो पीएम मोदी होंगे हिट कुछ ऐसी ही चर्चायें अब देश के कोने कोने में लोगों के बीच शुरू हो गयी है। बीती रात 12 बजे जब देश की संसद में GST की घंटी बजी तो प्रधानमंत्री मोदी ने एक और जोखिम से भरी हुयी सांस ली। जोखिम भरी सांस इसलिए क्यों कि देश में 20 महीने बाद होने वाले लोक सभा चुनाव में मोदी दुबारा एक प्रत्याशी के रूप में जनता के बीच खड़े होंगें। और तब वो अपने इसी फैसलों के कारण जनता की हाँ या न के शिकार होंगें।

इसे भी पढ़ें- 12 वीं के छात्र का खुला ख़त , प्रधानमंत्री जी... हमारे गांव के लोगों को नहीं पता क्या है जीएसटी

संसद में GST का शुभारंभ करते राष्ट्रपति एवं मुख्यमंत्री

पंद्रहवें प्रधानमंत्री बनने के बाद पीएम मोदी ने नोटबंदी के बाद से अपने राजनीतिक करियर का ये (GST) सबसे बड़ा जोखिम लिया है। जीएसटी की कामयाबी का असर पार्टी और सरकार दोनों पर पड़ेगा। इसमें सबसे बड़ी बात ये है कि जीएसटी की सफलता और असफलता दोनों का क्रेडिट पीएम मोदी को सीधे तौर पर मिलेगा, जीएसटी देश की इकॉनमी में फिट हुआ तो पीएम मोदी हिट हो जाएंगे अगर जीएसटी से देश को उम्मीद के मुताबिक फायदा नहीं हुआ तो इसका असर 2019 में बीजेपी की परफॉरमेंस पर पड़ेगा।

भारत में जीएसटी लागू तो हो गया है और इसका असर बड़े व्यापार से लेकर घरेलू कारोबार सब पर पड़ रहा है। जीएसटी ने अगर देश की इकॉनमी को मजबूत किया तो पीएम मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और बढ़ेगा लेकिन जीएसटी के परिणाम सरकार के उम्मीद के मुताबिक नहीं हुए तो इसका खामियाजा मोदी सरकार और बीजेपी दोनों को उठानी पड़ेगी। एक लाइन में कहें तो पीएम मोदी ने जीएसटी के रूप में अपने राजनीतिक करियर का सबसे बड़ा जोखिम लिया है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जीएसटी को सफल बनाने पर पूरा जोर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीएसटी को गुड एंड सिंपल टैक्स बताया है और नौकरशाहों को जीएसटी को सफल बनाने की कोशिश करने के निर्देश दिए हैं। पीएम मोदी ने अफसरों से कहा कि वे अपने संबंधित विभागों पर जीएसटी से पड़ने वाले असर का बारीकी से मुआयना करें। वहीं अधिकारियों का कहना है कि पीएम मोदी जीएसटी को कामयाब बनाने के लिए कमर कस चुके हैं। वह मुद्दे की बड़ी तस्वीर के अलावा इसकी बारीकियों को समझने के लिए लगातार ब्रीफिंग ले रहे हैं। जब नोटबंदी हुयी उस वक्त भी उन्होंने ऐसे ही किया था। इकॉनमी को रफ्तार देने के लिए मोदी अब देश के सबसे बड़े टैक्स रिफॉर्म के सहारे हैं। साथ ही पीएम मोदी के मंत्री भी जीएसटी को सफल बनाने के लिए लगातार मेहनत कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें- जीएसटी का लाभ देने के लिए मारुति ने वाहनों की कीमतों में तीन प्रतिशत तक कटौती की

अब अगर विपक्ष की बात करें तो कांग्रेस का राजनीतिक भविष्य जीएसटी की सफलता और असफलता दोनों का असर 2019 के चुनावों पर पड़ेगा, इसी के मद्देनजर मोदी एवं मोदी सेना सबसे बड़े टैक्स रिफॉर्म को सफल बनाने में जुटी है। दूसरी तरफ कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने आधा घूँट पानी पिया है ताकि भविष्य में पूरा गिलास पानी आसानी से पी सकें। कांग्रेस ने जीएसटी लॉन्च कार्यक्रम से दूरी बनाकर ये साफ बता दिया है कि अगर किसी वजह से जीएसटी के परिणाम अच्छे नहीं होते तो वो केंद्र सरकार की खिंचाई में कोई कसर नहीं छोड़ेगी और इसका फायदा 2019 के चुनाव में उठाएगी।

इसे भी पढ़ें- युवाओं के लिए खुशखबरी लेकर आएगा GST , पढ़िए कैसे?

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहांक्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top