मारे गए पांच आतंकवादी उरी में किए गए हमले जैसी वारदात को अंजाम दे सकते थे - थलसेना

मारे गए पांच आतंकवादी उरी में किए गए हमले जैसी वारदात को अंजाम दे सकते थे - थलसेनाब्रिगेडियर वाई एस अहलावत (फ़ोटो -इंटरनेट )

श्रीनगर (भाषा)। भारतीय थलसेना ने आज कहा कि शुक्रवार को उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ निरोधक अभियान में मारे गए पांच आतंकवादी एक फिदायीं दस्ते से जुडे हुए थे और आत्मघाती हमले की योजना बना रहे थे।

ये भी पढ़ें- भारत और उसकी सेना नज़र-नज़र का फर्क़

ब्रिगेडियर वाई एस अहलावत ने कहा, तलाशी अभियानों में अब तक बडी मात्रा में हथियार और गोला-बारुद बरामद किए गए हैं जिनमें पांच एके-47 राइफल, दो यूबीजीएल, बडी संख्या में विस्फोटक, लडाकू परिधान, ज्वलनशील सामग्री, पाकिस्तानी मार्के वाले खाने-पीने के सामान और टाइमर मशीनों से लैस आईईडी शामिल हैं।''

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

अहलावत ने कहा, "यह सब संकेत करता है कि यह एक फिदायीं समूह था जो थलसेना शिविर या उरी के पास एक असैन्य प्रतिष्ठान पर हमले की मंशा से सेक्टर में घुसा था।'' उत्तर कश्मीर के बारामुला जिले के उरी में पत्रकारों को संबोधित करते हुए अहलावत ने कहा कि यह बहुत संभव है कि आतंकवादी जिस तरह की सामग्री ले जा रहे थे, उससे 2016 में उरी में किए गए हमले जैसी वारदात को अंजाम दे सकते थे।

ये भी पढ़ें- कश्मीर में महिला प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए सेना में महिलाओं की होगी भर्ती

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top