देश

देशवासियों को स्वच्छता की शपथ दिलाएंगे पीएम मोदी

मोतिहारी जिला मुख्यालय स्थित गांधी मैदान में 'सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह' अभियान को लेकर मंगलवार को आयोजित स्वच्छता सम्मेलन की तैयारी अंतिम चरण में हैं। जिले की सुरक्षा व्यवस्था सख्त कर दी गई है। जिलाधिकारी रमण कुमार ने बताया,“ मुख्य कार्यक्रम स्थल पर तैनात अधिकारियों व पुलिसकर्मियों का मॉक ड्रिल सोमवार को हुआ।”

सोमवार को  दिन भर चलती रही तैयारियां।

'चंपारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष' के अवसर पर 10 अप्रैल को पूर्वी चंपारण के जिला मुख्यालय मोतिहारी में एक विशाल कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम में 20 हजार स्वच्छाग्रहियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगे। इन 20 हजार स्वच्छाग्रहियों में से 10 हजार बिहार के तथा 10 हजार दूसरे राज्य के होंगे। वहीं पूरे देश में बेहतर काम करने वाले 10 स्वच्छाग्रहियों को पीएम सम्मानित भी करेंगे। भारत सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का नाम 'चलो चंपारण' रखा गया है।

एक सप्ताह तक आयोजित किए गए कार्यक्रम। 

चीता टीम ने सघन जांच अभियान चलाया

पीएम की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ क्षेत्र को पूरी तरह से प्रतिबंधित घोषित किया गया है। हेलीपैड पर तीन हेलिकॉप्टर के उतरने की व्यवस्था की गई है। यहां के अलावा गांधी बाल उद्यान को प्रतिबंधित घोषित किया गया है। यहां पीएम मोदी बापू की प्रतिमा पर माल्यापर्ण करेंगे। प्रधानमंत्री की यात्रा को लेकर जिले के नक्सल प्रभावित इलाके में केंद्रीय रिजर्व पुलिस (सीआरपीएफ) की चीता टीम ने सघन जांच अभियान चलाया। बता दें कि नक्सली व आंतकी संगठनों के लिए यह जिला शुरू से चर्चा में रहा है। इसको लेकर चीता टीम जिले में सर्च अभियान चला रही है। शहर के होटल व लॉज में भी सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री मथुरा के स्वच्छाग्रहियों से सीधा संवाद करेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छ भारत अभियान के तहत मंगलवार को बिहार के चंपारण से मथुरा के मुकुंदपुर गाँव स्थित स्वच्छाग्रहियों से सीधे संवाद करेंगे। दूरदर्शन लखनऊ द्वारा इस कार्यक्रम का सुबह दस बजे से सीधा प्रसारण किया जाएगा। मथुरा के मुख्य विकास अधिकारी पवन कुमार गंगवार ने बताया, उत्तर प्रदेश से कानपुर व मथुरा विकास खंड की ओडीएफ ग्राम पंचायत मुकुंदपुर को चुना गया है।

ये भी पढ़ें- चंपारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष के अवसर पर ‘चलो चंपारण’