महंगे पेट्रोल का असर, धनतेरस-दीवाली पर कम खरीदारी का अनुमान- सर्वे

महंगे पेट्रोल का असर, धनतेरस-दीवाली पर कम खरीदारी का अनुमान- सर्वे

नई दिल्ली। पेट्रोल की आसमान छूती कीमतों का असर आम लोगों पर तेजी से नजर आने लगा है। पेट्रोल की खपत शहर इलाकों में भले ज्यादा हो लेकिन महंगाई की मार ग्रामीण इलाकों में ज्यादा पड़ती है। इस बार त्योहारी सीजन में महंगा पेट्रोल लोगों का बजट बिगाड़ रहा है।

त्योहारी मौसम से ठीक पहले पेट्रोल के बढ़े दाम उपभोक्ताओं को परेशान कर रहे हैं और उन्हें इसकी भरपाई के लिए घरेलू खर्च में कटौती करनी पड़ रही है। एक सर्वेक्षण में यह बात कही गयी है।

'लोकलसर्किल्स' ने अपने हालिया सर्वेक्षण में कहा, "त्योहारी मौसम नजदीक आ रहा है। हर कोई उपहारों पर खर्च करना चाह रहा है। लोग लंबे समय से घर के उपकरणों को बदलना चाह रहे हैं। हालांकि पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतें त्योहार पूर्व उत्साह को फीका कर रही हैं।"

2040 तक इन देशों में बैन हो जाएगी पेट्रोल और डीजल कारों की बिक्री


उसने कहा, "मध्यम श्रेणी के भारतीयों पर भारी बोझ है और उनमें से अधिकांश इससे कराह रहे हैं तथा इसकी भरपाई घरेलू खर्च में कमी लाकर कर रहे हैं।' 78 प्रतिशत लोग बाहर खाने जाना, यात्रा करना, सिनेमा देखना, खरीदारी करना आदि में कमी ला चुके हैं या ऐसा करने की उनकी योजना है।

भारत में नवरात्रों के दौरान शुरु हुई खरीददारी धनरेस में रफ्तार पकड़कर दीवाली तक चलती है। इस दौरान कंपनियां छूट देती हैं तो उपभोक्ता भी नई चीजों के लिए धनतेरस-दिवाली का वक्त चुनते हैं। शारदीय नवरात्र इस बार 10 अक्टूबर से 18 अक्टबूर तक होंगे। इस साल धनतेरस 5 नवबंर को जबकि सात नवंबर को होगी। दीवाली के बाद भाईदूज का त्योहार मनाया जाता है। नवरात्र से लेकर धनतेरस दीपावली तक गोल्ड, कार, इलेक्ट्रानिक आइटम, पेंट, फर्नीचर आदि की खूब बिक्री होती है। (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें- एथेनॉल कार्यक्रम को पीएम ने बताया किसानों की आमदनी बढ़ाने का जरिया, समझाया गणित

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top