सूखे से जूझ रहे किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन करेगी माकपा

सूखे से जूझ रहे किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन करेगी माकपा

लखनऊ। इस तपती गर्मी में देश का कई हिस्‍सा सूखे की मार झेल रहा है। ऐसे में माकपा देश के अधिकांश इलाकों में सूखे की स्थिति से निपटने के लिये देशव्यापी आंदोलन करने वाली है, जिससे सरकार पर राहत कार्य के लिए दबाव बनाया जा सके।

माकपा की केन्द्रीय समिति ने शनिवार को इस पर प्रस्ताव पारित कर दिया था। पार्टी ने सभी प्रदेश इकाईयों से सूखा प्रभावित इलाकों में किसान संगठनों को एकजुट कर जनआंदोलन करने को कहा है। इस आंदोलन के तहत सरकार पर सूखे से निपटने के उपाय एवं राहत कार्य शुरु करने का दबाव बनाया जा सकता है।



माकपा महासचिव सीताराम येचुरी की अध्यक्षता में पार्टी की केन्द्रीय समिति की तीन दिवसीय बैठक के दौरान यह प्रस्‍ताव पारित किया गया। देश के अधिकांश इलाके सूखे की चपेट में होने पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्‍होंने कहा कि पिछले 65 साल में मानसून सबसे भयावह स्थिति उत्पन्न कर रहा है।

इसे भी पढ़ें- 2020 में दस करोड़ लोगों को नहीं मिलेगा पानी,क्या पानी के लिए जंग लड़ने को तैयार हैं आप?

केन्द्रीय समिति ने प्रस्ताव में कहा कि गुजरात, बिहार, कर्नाटक, झारखंड, और आंध्र प्रदेश सहित तमाम अन्य राज्यों में जलसंकट भी गहरा गया है। इसकी वजह से केन्द्र सरकार को इन राज्यों में सूखे से निपटने के लिये एहतियाती उपाय एवं परामर्श जारी करने पड़े हैं। माकपा ने गंभीर स्थिति के बावजूद भाजपा की अगुवाई वाली केन्द्र सरकार द्वारा सूखा प्रभावित राज्यों को पर्याप्त राहत सहायता देने में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।

उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव के परिणाम की राज्यवार समीक्षा के लिए सात से नौ जून तक माकपा की केन्द्रीय समिति की बैठक आयोजित की गयी है। पार्टी पोलित ब्यूरो और प्रदेश इकाईयों के पदाधिकारियों की मौजूदगी वाली समिति की बैठक के दूसरे दिन शनिवार को देश में सूखे की स्थिति पर चर्चा करते हुये यह प्रस्ताव पारित किया गया है। (इनपुट भाषा)


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top