Top

अगर आप हरिद्वार जाकर गंगा स्नान करना चाहते हैं तो ये खुलासा आपको आश्चर्य में डाल देगा

अगर आप  हरिद्वार जाकर गंगा स्नान करना चाहते हैं तो ये खुलासा आपको आश्चर्य में डाल देगानहाने लायक भी नहीं है गंगा का पानी। (फोटो- साभार इंटरनेट)

देहरादून। गंगा में स्नान करने से भले आपके पाप 'धुल' जाएं, लेकिन इसका पानी आपको बीमार कर सकता है। हरिद्वार जाकर आप गंगा में डुबकी लगाकर अच्छा महसूस करते होंगे, लेकिन यकीन मानिए यहां पानी इतना गंदा है कि पीना तो दूर, नहाने लायक भी नहीं बचा है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि हरिद्वार में गंगा नदी का पानी तकरीबन हर पैमाने पर असुरक्षित है।

ये भी पढ़ें- मानव का दर्जा पाने के बाद गंगा को मिला पहला कानूनी नोटिस

जानकारी के मुताबिक, उत्तराखंड में गंगोत्री से लेकर हरिद्वार जिले तक 11 जगहों से पानी की गुणवत्ता की जांच के लिए सैंपल लिए गए थे। ये 11 जगह 294 किलोमीटर के इलाके में फैली है। बोर्ड के वरिष्ठ वैज्ञानिक आरएम भारद्वाज ने बताया, इतने लंबे दायरे में गंगा के पानी की गुणवत्ता जांच के 4 प्रमुख सूचक रहे, जिनमें तापमान, पानी में घुली ऑक्सिजन (DO), बायोलॉजिकल ऑक्सिजन डिमांड (BOD) और कॉलिफॉर्म (बैक्टीरिया) शामिल हैं। हरिद्वार के पास के इलाकों के गंगा के पानी में BOD, कॉलिफॉर्म और अन्य जहरीले तत्व पाए गए।

CPCB के मानकों के मुताबिक, नहाने के एक लीटर पानी में BOD का स्तर 3 मिलीग्राम से कम होना चाहिए, जबकि यहां के पानी में यह स्तर 6.4mg से ज्यादा पाया गया। इसके अलावा, हर की पौड़ी के प्रमुख घाटों समेत कई जगहों के पानी में कॉलिफॉर्म भी काफी ज्यादा पाया गया। प्रति 100ml पानी में कॉलिफॉर्म की मात्रा जहां 90 MPN (मोस्ट प्रॉबेबल नंबर) होना चाहिए, वह 1,600 MPN तक पाई गई। CPCB की रिपोर्ट के मुताबिक नहाने के पानी में इसकी मात्रा प्रति 100 ml में 500 MPN या इससे कम होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें- ‘गंगा किनारे बसे गाँवों में मनाया जाएगा स्वच्छता संकल्प दिवस’

इतना ही नहीं, हरिद्वार के पानी में DO का स्तर भी 4 से 10.6 mg तक पाया गया, जबकि स्वीकार्य स्तर 5 mg का है। जानेमाने पर्यावरणविद् अनिल जोशी ने कहा, 'हरिद्वार इंडस्ट्रियल और टूरिस्ट हब बन गया है, ऐसे में जब तक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट इन्स्टॉल नहीं किए जाते और पानी की गुणवत्ता पर सख्त निगरानी नहीं रखी जाती, घाटों का पानी प्रदूषित रहेगा।' आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, हरिद्वार के 20 घाटों में रोजाना 50,000 से 1 लाख श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाते हैं। ऐसे में क्या इतने लोगों का गंगा में स्नान करना सही है?

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.