Top

गाजीपुर बॉर्डर से Live: फूट-फूट कर रोए राकेश टिकैत, बोले- सरकार किसानों को मारना चाहती है, धारा-144 लगाई गई

गाजीपुर बॉर्डर से कृषि कानूनों के खिलाफ धरना दे रहे किसानों को हटने का अल्टीमेटम दे दिया गया है। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात हैं। धारा-144 लगा दी गई है।

Arvind ShuklaArvind Shukla   28 Jan 2021 2:00 PM GMT

rakesh tikait, farmers leader rakesh tikaitगाजीपुर बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसान नेता राकेश टिकैत। (फोटो- अरविंद शुक्ला, गांव कनेक्शन)

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किला और कई दूसरे हिस्सों में हुई हिंसा के बाद दिल्ली और उत्तर प्रदेश पुलिस एक्शन में आ गई है। नये कृषि कानूनों के विरोध दो महीने से यूपी गेट और गाजीपुर बॉर्डर पर डटे किसानों को हटाने के लिए यूपी पुलिस ने तैयारी शुरू कर दी है। गुरुवार शाम गाजियाबाद जिला प्रशासन ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को धरना स्थल से हटने का अल्टीमेटम दे दिया है।

- गाजीपुर बॉर्डर पर जारी तनातनी के बीच राहुल गांधी बोले- मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं।

- राकेश टिकैत ने अपने ऊपर लगे लोगों के भड़काने के आरोपों को ख़ारिज किया, कहा पुलिस के नोटिस का जवाब देंगे, आंदोलन जारी रहेगा, लालकिले पर बवाल किसने किया सबको पता चल गया है।

- दिल्ली पुलिस ने बताया कि 26 जनवरी को हिंसा में शामिल होने और कानूनों का उल्लंघन करने के कारण बुराड़ी के डीडीए ग्राउंड से लगभग 30 किसान सिंघु बॉर्डर की ओर चले गए हैं और लगभग 15 अन्य किसानों को हिरासत में लिया गया है। बुराड़ी का मैदान खाली कराया जा रहा है।

- नई दिल्ली- एसीपी ललित मोहन नेगी को लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने की घटना और हिंसा जांच करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

- गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का धरना खत्म कराने के लिए धारा-144 लगा दी गई है। बॉर्डर पर बैरिकेडिंग कर दोनों तरफ से बंद कर दिया गया है।

- गाजियाबाद एसडीएम सिटी शैलेंद्र कुमार सिंह पत्रकारों से बातचीत में बताया कि सीआरपीसी की धारा 133 (उपद्रव हटाने के सशर्त आदेश) के तहत किसानों को नोटिस दिया गया है।

- इस पर राकेश टिकैत ने कहा हम यही बैठे रहेंगे। गांव से पानी आयेगा तभी पीऊंगा। उन्होंने यह भी कहा कि हम अपना धरना-प्रदर्शन जारी रखेंगे।

Updating...

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.