Arvind Shukla

Arvind Shukla

पिछले 13 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत अरविंद शुक्ला गांव कनेक्शन में डिप्टी न्यूज एडिटर हैं (डिजिटल हेड)। खेती-किसानी और ग्रामीण विकास के क्षेत्र पर रिपोर्टिंग करते हैं। गांव कनेक्शन से पहले कई अख़बारों और समाचार चैनलों में काम कर चुके हैं।


  • कमाई का जरिया और पूजनीय गाय सिरदर्द कैसे बन गई ?

    अरविंद शुक्ला/ दिति बाजपेई लखनऊ/पंजाब। पिछले कुछ वर्षों से गाय राष्ट्रीय मुद्दा है। गाय अख़बारों की हेडलाइन बनी हैं, तो टीवी चैनलों पर घंटों की बहस हुई है। सोशल मीडिया में कई दिनों तक हैशटैग ट्रेंड किए हैं। लेकिन जिस मुद्दे पर गाय को लेकर चर्चा होनी चाहिए थी वो नहीं हुआ, नतीजा ये हुआ कि जो किसान...

  • पंजाब के संगरूर में तबाही की ओलावृष्टि, हजारों एकड़ फसल चौपट

    लखनऊ। 20 जनवरी के बाद आए मौसम के बदलाव ने पंजाब के संगुरूर जिले में भारी नुकसान पहुंचाया है। संगरूर के मलेरकोटला इलाके में भारी ओलावृष्टि से हजारों एकड़ फसलें तबाह हो गयी हैं। कई किलोमीटर तक खेतों में सिर्फ सफेद बर्फ की चादर नजर आ रही है। ओले इतने ज्यादा थे कि पंजाब के इन किसानों को ट्रैक्टर चलाकर...

  • प्रेम सिंह: अमेरिका समेत कई देशों के किसान जिनसे खेती के गुर सीखने आते हैं बुंदेलखंड

    बांदा के प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह जहर मुक्त खेती करते हैं। वो दूसरे किसानों को बिना रसायनिक कीटनाशक और उर्वरक के खेती करने के गुर सिखाते हैं। प्रेम सिंह किसानों को तीन हिस्से में बांट कर खेती करने और किसानों को कमाई बढ़ाने के कई 'गुरुमंत्र' भी देते हैं।सूखे के लिए कुख्यात बुंदेलखंड में...

  • रामनामी: पूरे शरीर में राम का नाम, लेकिन मंदिर से कोई लेना देना नहीं

    विविधिताओं के देश भारत के दो हिस्सों में दुनिया के बेहद खास आयोजन हो रहे हैं। एक तरफ उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) में अर्द्धकुंभ चल रहा है तो दूसरी छ्त्तीसगढ़ में रामनामी भजन मेला। दोनों ही आस्था और लोक सस्कृति का प्रतिनिधित्व करते हैं।छत्तीसगढ का रामनामी मेला अपने आप में बहुत खास है। यहां...

  • छुट्टा गोवंशों से संकट में खेती, अब यह किसानों की सबसे बड़ी समस्या

    लखनऊ/बाराबंकी/सीतापुर। वो जनवरी की पहली रात थी, घुप्प अंधेरा था, कोहरा इतना ज्यादा था कि 10 फीट पर खड़ा आदमी दिखाई न दे। करीब 9 बजे थे और तापमान 10 डिग्री सेल्सियस था। ठंड इतनी थी कि मुंह से भाप निकल रही थी, लेकिन उत्तर प्रदेश के गंधी गाँव के रोहित कुमार अपने खेतों में पहरा दे रहे थे।किसानों...

  • Video : स्ट्रॉबेरी है नए ज़माने की फसल: पैसा लगाइए, पैसा कमाइए

    बाराबंकी (यूपी)। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पड़ोसी जिले बाराबंकी में रहने वाले सतेंद्र वर्मा अभी तक टमाटर और केले की खेती करते थे, उन्हें ठीक-ठीक मुनाफा भी हो रहा था। लेकिन सतेंद्र अपनी खेती को ही रोजगार बनाना चाहते थे अब वो स्ट्राबेरी की खेती करते हैं। सतेंद्र की मानें तो इस नए तरह की खेती...

  • Kumbh Mela 2019 : कुंभ में रचा गया इतिहास, पहली बार किन्नर अखाड़े ने किया शाही स्नान

    कुंभ नगरी (प्रयागराज)। गंगा यमुना के पावन संगम पर हो रहा कुंभ मेला कई मायनों में इस बार खास हो गया। Kumbh Mela 2019 के पहले शाही स्नान को किन्नर अखाड़े के शाही स्नान पर लोगों की नजरें टिकी गईं। ये कुंभ के नाम पर भी इतिहास हैं, क्योंकि किसी भी कुंभ में किन्नरों का ये अपनी तरह का पहला स्नान...

  • गाय समस्या नहीं समाधान है... बशर्ते

    अरविंद शुक्ला/दिति बाजपेईलखनऊ (उत्तर प्रदेश)। भारत में किसान छुट्टा गाय के पीछे लाठी लेकर दौड़ रहा है, वहीं पाकिस्तान में इसी गोवंश के गोबर से बसें चलाने की तैयारी है। एक गाय औसतन रोजाना दो से तीन किलो दूध देती है, लेकिन कम से कम सात लीटर गोमूत्र और 10 किलो गोबर देती है। अगर इसका सदुपयोग हो तो ये...

Share it
Top