तीन तलाक रोधी बिल को सलेक्ट कमेटी भेजने की मांग पर मजबूती से जमी रहें पार्टियां : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड 

तीन तलाक रोधी बिल को सलेक्ट कमेटी भेजने की मांग पर मजबूती से जमी रहें पार्टियां :  मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तीन तलाक।

लखनऊ (भाषा)। संसद के शीतकालीन सत्र में लोकसभा से पास होने के बाद राज्यसभा में ट्रिपल तलाक बिल पेश किया गया पर विपक्ष अड़ा हुआ है कि बिल को सलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए। इस पर ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने राज्यसभा में पेश किए गए तीन तलाक रोधी विधेयक की खामियों पर जोर देते हुए इसे सलेक्ट कमेटी के पास भेजेने की मांग करने वाली पार्टियों का शुक्रिया अदा किया।

बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना खलील उर रहमान सज्जाद नोमानी ने बताया, ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड उन तमाम पार्टियों का शुक्रगुजार है, जिन्होंने आज राज्यसभा में इस बात पर जोर दिया कि तीन तलाक रोधी विधेयक में जो भी खामियां हैं, उनको दूर करने के लिए इसको प्रवर समिति के पास भेजा जाए।

ये भी पढ़ें- राज्यसभा में तीन तलाक बिल पेश, ताल ठोंकता रहा विपक्ष  

उन्होंने कहा हम उम्मीद करते हैं कि सभी पार्टियां अपने-अपने रुख पर मजबूती से जमी रहेंगी। हम यह भी उम्मीद करते हैं कि भाजपा की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के और भी सांसद अपने जमीर की आवाज पर राज्यसभा में इस बारे में राय देंगे।

ये भी पढ़ें- ‘तीन तलाक पर कानून बनने के बाद कोई मुस्लिम बच्ची खौफ में नहीं जिएगी’

बोर्ड प्रवक्ता ने कहा, भाजपा इस विधेयक की ऐसी खामियों की अनदेखी कर रही है, जो तलाक के मसायल को और उलझा देंगी। हम पुरजोर अल्फाज में भाजपा के रवैये की निंदा करते हैं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

नोमानी ने कहा कि मौजूदा शक्ल में तीन तलाक रोधी विधेयक से मुस्लिम औरतों की तकलीफ बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी। यह विधेयक भारत के संविधान के साथ-साथ उच्चतम न्यायालय के 22 अगस्त 2017 के फैसले के भी खिलाफ है।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top